छत्तीसगढ़ में फिर किसान ने की आत्महत्या

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ में फिर एक किसान ने आत्महत्या कर ली. आरोप है कि उसने कर्ज के कारण आत्महत्या कर ली, वहीं हमेशा की तरह सरकार ने कर्ज के कारण आत्महत्या के आरोप से इंकार किया है.

इधर भाजपा अध्यक्ष अरुण साव ने कहा है कि जिस तरह छत्तीसगढ़ सरकार ने उत्तरप्रदेश में जा कर किसानों को 50-50 लाख का मुआवजा दिया था, क्या उसी तरह मृतक किसान को भी 50 लाख का मुआवजा देगी?

बुधवार को जशपुर जिले के बगीचा, पंडरापाठ चौकी क्षेत्र के 26 साल के युवा किसान रामकुमार उज्जवल यादव की आत्महत्या की खबर सामने आने के बाद से ही किसानों की आत्महत्या को लेकर सवाल उठने लगे हैं.

मृतक के परिजनों का कहना था कि रामकुमार ने इस साल 17 एकड़ में मक्के की खेती की थी. इसके लिए रामकुमार ने कई लोगों से लगभग 40 हज़ार से अधिक का कर्ज लिया था. इसके अलावा पिछले कुछ सालों का भी कर्ज उसके ऊपर था.

लेकिन उसकी फसल बर्बाद हो गई थी और कर्ज को चुकाने का कोई रास्ता उसके पास नहीं था.

उसने अपने भाई नंदलाल यादव से भी इसकी चर्चा की थी.

इधर बगीचा के अधिकारियों ने अपनी जांच रिपोर्ट में कहा है कि रामकुमार यादव ने स्वास्थ्यगत एवं पारिवारिक परेशानियों के चलते आत्महत्या की है.

दूसरी ओर विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और सांसद अरुण साव ने कहा है कि बार-बार किसानों की खुशहाली का जो दावा किया जाता है, उसकी पोल खुली है. प्रदेश में किसान लगातार आत्महत्या क्यों कर रहे हैं?

अरुण साव ने कहा है कि जशपुर के 26 साल के युवा किसान ने 40 हजार के कर्ज के लिए आत्महत्या ली. यह दर्शाता है कि किसानों के बीच प्रशासनिक मदद की कोई उम्मीद नहीं है.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस जवाब दे कि क्या वह जशपुर में खुदकुशी करने वाले रामकुमार उर्फ उज्जवल यादव के परिवार को उत्तर प्रदेश के किसानों के जैसे ही 50 लाख का मुआवजा देगी?

कांग्रेस ने कहा-आत्महत्या की बात अतार्किक

कांग्रेस पार्टी के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने भाजपा के बयान पर कहा है कि रमन सिंह के 15 साल के शासन काल में 16,500 किसानों ने आत्महत्या की थी. सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि ग्रामीण क्षेत्र के किसी व्यक्ति ने किसी भी कारण से आत्महत्या कर लिया तो भाजपा उस मौत पर राजनीतिक रोटी सेंकने की बेशर्म कवायद में लग जाती है.

सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि जिस राजकुमार की मौत पर भाजपा अध्यक्ष बयान जारी कर रहे, वह बड़े किसान थे, उन्होंने 17 एकड़ में मक्का बोया था.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा-मात्र 40 हजार के कर्ज के लिए आत्महत्या की बात अतार्कित और अविश्वसनीय है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!