आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक दवाओं के खिलाफ अमरीका

Friday, July 26, 2013

A A

आयुवेर्दिक होम्योपैथिक दवाइयां

वॉशिंगटन: अमरीकी खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने मधुमेह के उपचार का दावा करने वाले आयुर्वेदिक एवं होमियोपैथिक दवाओं और संबंधित खाद्य उत्पादों की बिक्री के खिलाफ अभियान चलाया है. प्रशासन ने 15 कंपनियों को इसके संबंध में चेतावनी जारी की है और कहा है कि मधुमेह के उपचार के नाम पर उनके द्वारा अवैध ढंग से बाजार में लाए गए उत्पादों से अमरीकी ड्रग कानून का उल्लंघन हुआ है.

इनमें से कुछ कंपनियां ऐसी हैं, जो मधुमेह के उपचार से संबंधित उत्पाद भारत से खरीदती हैं. मधुमेह एवं इससे संबंधित जटिलताओं की गंभीरता को कम करने, इसके उपचार, इसे ठीक करने या इसके रोकथाम का दावा करने वाली विदेशी एवं घरेलू कंपनियां ऑनलाइन या खुदरा दुकानों के माध्यम से अपने उत्पादों की बिक्री करती हैं.

इनसे कहा गया है कि वे 15 दिनों के भीतर खाद्य एवं औषधि प्रशासन को बताएं कि वे किस प्रकार इन उल्लंघनों को दुरुस्त करेंगी.

खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने इन कंपनियों की दवाओं के उपभोक्ताओं को भी सलाह दी है कि वे इस तरह के उत्पादों को न खरीदें, क्योंकि इसमें नुकसानदेह या असुरक्षित सामग्री हो सकती है. ये उत्पाद वैधानिक रूप से मधुमेह के उपचार के लिए मौजूद दवाओं का भी स्थान ले सकते हैं.

खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने जिन दवाओं पर प्रतिबंध लगाए हैं, उनमें मेटफॉरमिन तथा जनुविया जैसी अमान्य दवाएं भी हैं, जिन्हें भारत से खरीदा जाता है और अमेरिका में जिनकी बिक्री ऑनलाइन की जाती है. प्रतिबंधित दवाओं में डिक्सी भी शामिल है, जिसका निर्माण सूरत की अमार्तम लाइफकेयर कंपनी करती है.

खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने कहा है कि उसे फिलहाल इन दवाओं से किसी प्रकार की बीमारी या नुकसान के बारे में सूचना नहीं मिली है, लेकिन उसने प्रतिबंध का कदम सार्वजनिक स्वास्थ्य को होने वाले किसी भी नुकसान से बचाने के लिए उठाया है.

उल्लेखनीय है कि दुनियाभर में मधुमेह के 30 करोड़ मरीज हैं, जिनमें से करीब 2.6 करोड़ अमेरिकी और छह करोड़ भारतीय हैं. पिछले चार वर्षो में मधुमेह के उपचार से संबंधित दवाओं की बिक्री में 60 प्रतिशत की वृद्धि हुई है.

Tags: , , ,