महानदी का पानी मिट्टी के मोल बेचा

रायपुर | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ के एक ईई ने महानदी का पानी मिट्टी के मोल बेचा. महासमुंद के बेलसोंडा गांव स्थित निजी कंपनी मेसर्स बालाजी प्राइवेट लिमिटेड को महानदी का पानी मिट्टी के मोल दिया जा रहा है.छत्तीसगढ़ के जल संसाधन विभाग के महासमुंद संभाग के ईई पीके आनंद ने इस निजी कंपनी को महानदी का पानी 3.51 रुपये प्रति घन मीटर की दर से दिया जा रहा है. जबकि औद्योगिक प्रयोजन के लिये बैराज या नदी से प्रवाहित जल की कीमत 10.50 रुपये प्रति घन मीटर है.

उल्लेखनीय है कि तिल्दा-नेवरा के पास स्थित जीएमआर एनर्जी को 10.50 की दर से पानी दिया जा रहा है.

बेलसोंडा स्थित बालाजी प्लांट को साल में 3 लाख 50 हजार घन मीटर पानी देने का करार किया गया है. बालाजी प्लांट 3.51 रुपये की दर से साल में 12 लाख 28 हजार 500 रुपये का भुगतान करेगा.

इस तरह से बालाजी प्लांट के साथ हुये करार से जल संसाधन विभाग को साल में 24 लाख 46 हजार 500 रुपये की चपत लगेगी.

उल्लेखनीय है कि तिल्दा-नेवरा के पास स्थित जीएमआर एनर्जी के साथ छत्तीसगढ़ के जल संसाधन विभाग के रायपुर संभाग ने 11 दिसंबर 2015 को करार किया था जबकि बेलसोंडा स्थित बालाजी प्लांट के साथ महासमुंद संभाग ने उसके बाद 2 मई 2016 को करार किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!