छत्तीसगढ़: नकली पुलिस ने की ठगी

Friday, January 9, 2015

A A

कोरबा की महिला

कोरबा | अब्दुल असलम: शहर के भीड़-भाड़ भरे इलाके निहारिका दशहरा मैदान के पास दो युवकों ने दुस्साहसिक ढंग से ठगी की वारदात को अंजाम दिया है. युवकों ने खुद को पुलिस कर्मी बताते हुए घर से पूजा करने मंदिर जा रही एक महिला को अपना शिकार बनाया है. आरोपियों ने महिला से सोने की चैन और कंगन की ठगी कर ली और फरार हो गए. मामले की रिपोर्ट पीडि़ता ने रामपुर चौकी में दर्ज करा दी है. लूट की सूचना के बाद पुलिस ने आरोपियों की पतासाजी शुरू कर दी है.

रामपुर चौकी क्षेत्रान्तर्गत राजेन्द्र प्रसाद नगर, प्लाट नं. 792 में प्रेमलता भुजासिया पति स्व. हरिश चंद्र भुजासिया का परिवार निवास करता है. प्रेमलता रोज की तरह आज सुबह लगभग 9 बजे अपने घर के समीप स्थित मंदिर पूजा करने जा रही थी. इसी दौरान दो युवक मौके पर पहुंचे और प्रेमलता का रास्ता रोककर उन्होंने अपने आपको पुलिस बताया और महिला को यह जानकारी दी कि निहारिका के समीप एक महिला के साथ लूटपाट की वारदात हो गई है. उन्होंने महिला से कहा कि आप अपना जेवर निकालकर रूमाल में रख लें. यह कहने पर महिला जेवर निकालने से इंकार करती रही, लेकिन दोनों युवकों ने अपने आपको पुलिस बताते हुए दबावपूर्वक उसके गले से सोने की चैन व सोने का कंगन निकाल लिया और जेवरात अपने पास रख लिए.

इसी बीच दोनों युवकों ने अपने पास रखे नकली कंगन व सोने के चैन को कागज में लपेटकर प्रेमलता के हाथ में थमा दिया और मौके से फरार हो गए. जब प्रेमलता अपने घर पहुंची और उसने अपने जेवरात देखे तो उसे पता चला कि उसके जेवरात नकली हैं. इसके बाद प्रेमलता ने इस घटना की जानकारी अपने परिजनों को दी और तत्काल रामपुर चौकी पहुंचकर इस घटना की जानकारी पुलिस को दी गई. पुलिस ने घटना की सूचना पाते ही आरोपियों की धरपकड़ के लिए जिले में नाकेबंदी कर दी है.

फिर सक्रिय हुआ ईरानी गिरोह
ज्ञात रहे कि जिले में इस तरह लूट की यह पहली वारदात नहीं है. इसके पूर्व भी नकली पुलिस बनकर ठगी की कई घटनाएं भी घटित हो चुकी है. पूर्व में जिला पुलिस ने इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने वाले ईरानी गिरोह को दबोचा भी था. बताया जाता है कि नकली पुलिस बनकर इस तरह की ठगी की वारदात को अंजाम देने वाला गिरोह एक बार फिर सक्रिय हो गया है, जो जिले में ही नहीं, बल्कि छत्तीसगढ़ के विभिन्न जिलों में ठगी की वारदात को अंजाम देते हैं.

अपराधियों के हौसले बुलंद

जिस तरह निहारिका क्षेत्र के भीड़-भाड़ वाले इलाके से सटे दशहरा मैदान के पास आरोपियों ने इस वारदात को अंजाम दिया है. उससे साफ है कि अपराधियों के हौसले बुलंद है. योजनाबद्घ तरीके से आरोपियों ने इस वारदात को अंजाम दिया है. उनके पास पहले से ही नकली जेवर थे, जिनकी मदद से उन्होंने आसानी से इस वारदात को अंजाम दिया और फरार हो गए.

लोग नहीं लेते सबक
जिले में नकली पुलिस बनकर इस तरह की ठगी व लूट का मामला कई बार प्रकाश में आ चुका है. इसके बाद भी लोग ऐसी घटनाओं से सबक नहीं लेते. कोई भी पुलिस कर्मी जेवर व पैसा रूमाल में बांधकर रखने की बात नहीं कहता. ऐसे कहने वाले लोगों पर शुरू से ही लोगों को संदेह हो जाना चाहिए. लोग अगर इस तरह की आरोपियों को पहले से ही भांप जाए तो उन्हें मौजूद लोगों की मदद से आसानी से पकड़ा जा सकता है. साथ ही अपराधी भी इस तरह से ठगी करने में कतराएंगे. इसके लिए लोगों में जनजागरूकता भी जरूरी है.

पुलिस ने की नाकेबंदी

महिला ने जिस तरह से आरोपियों का हुलिया पुलिस को बताया है पुलिस ने इसके बाद नाकेबंदी कर आरोपियों की धरपकड़ का प्रयास शुरू कर दिया है. जिले के चेकिंग पाइंट पर तैनात पुलिस जवानों को वारदात की सूचना देकर अलर्ट कर दिया गया है. वहीं आसपास के क्षेत्रों में भी आरोपियों की खोजबीन की जा रही है.

Tags: , , , ,