आर्सेलर मित्तल नहीं लगाएगी ओडिशा में संयंत्र

Thursday, July 18, 2013

A A

आर्सेलरमित्तल

भुवनेश्वर | एजेंसी: विश्व की सबसे बड़ी इस्पात निर्माता कंपनी आर्सेलर मित्तल ने ओडिशा के क्योंझर जिले में 1.2 करोड़ टन सालाना क्षमता वाली एकीकृत इस्पात संयंत्र परियोजना से हाथ खींच लिए हैं. कंपनी का कहना है कि वह इस परियोजना से बाहर निकल रही है, क्योंकि वह जरूरी भूमि और खदान हासिल करने में कामयाब नहीं रही है जिससे यह परियोजना उसके लिए अव्यवहारिक हो गई है.

कम्पनी ने दिसम्बर 2006 में ओडिशा सरकार के साथ इस परियोजना के लिए सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया था और इस परियोजना में 40 हजार करोड़ रुपये का निवेश करने वाली थी.

आर्सेलर मित्तल के भारत और चीन संचालन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और कार्यकारी उपाध्यक्ष विजय भटनागर ने कहा, “पिछले सात सालों से हमने परियोजना में काफी संसाधन झोंके हैं, लेकिन भूमि अधिग्रहण में देरी और कैप्टिव लौह अयस्क ब्लॉक के आवंटन में देरी का मतलब है कि अब यह परियोजना व्यावहारिक नहीं रही.”

कम्पनी ने हालांकि कहा कि वह झारखंड और कर्नाटक में अपनी परियोजनाओँ पर काम जारी रखेगी. इससे पहले दक्षिण कोरिया की इस्पात निर्माता कम्पनी पॉस्को ने भी कर्नाटक में अपनी 30 हजार करोड़ रुपये वाली इस्पात निर्माण परियोजना आयरन ओर नहीं मिलने के चलते रद्द कर दी थी.

Tags: , , , , ,