विनोद वर्मा की जमानत पर सुनवाई शुक्रवार को

बिलासपुर | संवाददाता: पत्रकार विनोद वर्मा की जमानत पर अब शुक्रवार को सुनवाई होगी. मंगलवार को छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान कोर्ट ने सीबीआई को भी मामले में पक्षकार बनाने का निर्देश दिया है. इस बीच भाजपा सांसद रमेश बैस की रायपुर जेल में विनोद वर्मा से कथित मुलाकात को लेकर अटकलों का बाजार गरम हो गया है. हालांकि बैस ने इस मुलाकात का खंडन किया है.

मंगलवार को छत्तीसगढ़ के मंत्री राजेश मूणत की कथित सेक्स सीडी मामले में गिरफ्तार वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा के मामले की सुनवाई हाईकोर्ट में हुई. कोर्ट ने इस मामले में सीबीआई को भी पक्षकार बनाने का निर्देश देते हुये सुनवाई शुक्रवार तक के लिये स्थगित कर दी.


गौरतलब है कि अक्टूबर में भाजपा के वरिष्ठ नेता प्रकाश बजाज ने रायपुर के पंडरी थाने में एक रिपोर्ट दर्ज करायी थी कि उनके आका की कथित सीडी सार्वजनिक कर के बदनाम करने संबंधी फोन उन्हें आया है. उनकी रिपोर्ट के बाद पुलिस ने तुरंत-फुरंत में कार्रवाई की और रायपुर में एफआईआर दर्ज होने के 11 घंटे के भीतर रायपुर की टीम ने दिल्ली और उसके बाद गाजियाबाद पहुंच कर तड़के 3 बजे देश के वरिष्ठ पत्रकार विनोद वर्मा को गिरफ्तार कर लिया.

उन्हें छत्तीसगढ़ पुलिस सड़क मार्ग से गाजियाबाद से लेकर रायपुर पहुंची और 29 अक्टूबर रविवार को रायपुर की अदालत में पेश किया गया, जहां पुलिस ने उन्हें तीन दिन के पुलिस रिमांड पर लिया था. इसके बाद उन्हें अदालत में पेश किया गया था, जहां उन्हें 13 नवंबर तक के लिये न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था.

अदालत ने पुलिस को उनकी सुरक्षा और स्लिप डिस्क के इलाज को लेकर भी अदालत ने निर्देश दिये थे. 13 नवंबर के बाद अदालत ने उन्हें फिर से 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में रखा है. इस बीच उनके वकीलों ने उनकी जमानत की याचिका हाईकोर्ट में दायर की है, जिस पर अभी कोई फैसला नहीं आया है. इस मामले में लोअर कोर्ट में 11 दिसंबर को सुनवाई हुई है, जिसका फैसला सुरक्षित रखा गया है.

पुलिस का आरोप है कि छत्तीसगढ़ सरकार के मंत्री राजेश मूणत को बदनाम करने के लिये कथित सेक्स सीडी बनाई गई थी. हालांकि अभी तक पुलिस पूरे मामले में विनोद वर्मा के कनेक्शन को स्थापित नहीं कर पाई है लेकिन उसने अदालत में दावा किया है कि उसके पास विनोद वर्मा के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य हैं, जिसे वह अगली तारीख पर कोर्ट में पेश करेगी.

छत्तीसगढ़ के मंत्री राजेश मूणत पहले ही इस सीडी को खारिज कर चुके हैं. उनका कहना है कि अश्लील क्लिप में छेड़छाड़ करके उन्हें बदनाम किया गया. इस संबंध में उन्होंने विनोद वर्मा के अलावा छत्तीसगढ़ में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष और विधायक भूपेश बघेल के खिलाफ एक मामला भी दायर किया है.

इधर मंगलवार को रायपुर से भाजपा सांसद रमेश बैस की जेल जा कर कथित रुप से विनोद वर्मा से की गई मुलाकात को लेकर राजनीतिक अटकलों का बाजार गरम रहा. हालांकि रमेश बैस ने इस तरह की किसी भी मुलाकात का खंडन किया है. उन्होंने कहा कि एक अन्य क़ैदी से मिलने के लिये वे जेल पहुंचे थे, जहां गलती से विनोद वर्मा को भी बुला लिया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!