‘दिल’ की मुश्किलें खत्म

मुंबई | मनोरंजन डेस्क: फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ की मुश्किलें खत्म होती नज़र आ रहीं हैं. सरकारी हस्तक्षेप के बाद महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के राज ठाकरे इस फिल्म का विरोध न करने के लिये तैयार हो गये हैं. फइल्म रिलीज होने के पहले उरी हमले में शहीद हुये जवानों को श्रध्दांजलि दी जायेगी. पाक कलाकार फवाद खान के इस फिल्म में अभिनय करने के कारण इसका विरोध किया जा रहा था. शनिवार को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस, महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे और करण जौहर की बीच बैठक के बाद फिल्म को लेकर चल रहा विवाद सुलझा लिया गया.

फिल्म एंड टेलीविजन प्रोड्यूसर गिल्ड के प्रमुख मुकेश भट्ट ने महाराष्ट्र के मुक्यमंत्री फडनवीस से मीटिंग के बाद कहा कि, बैठक में यह तय किया गया है कि आगे से कोई भी पाकिस्तानी कलाकर भारतीय सिनेमा में काम नहीं करेगा.

मुकेश भट्ट ने बताया कि बैठक में फिल्मकार करण जौहर ने प्रस्ताव रखा कि फिल्म रिलीज होने से पहले उरी हमले में शहीद हुये सैनिकों को श्रद्धांजलि दी जायेगी. बैठक के बाद एमएनएस ने कहा है कि पार्टी फिल्म का विरोध नहीं करेगी.

गौरतलब है कि फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ में पाकिस्तानी कलाकर फवाद खान के रोल का राज ठाकरे की पार्टी एमएनएस विरोध कर रही है.

राज ठाकरे की पार्टी का कहना है कि किसी भी पाकिस्तानी कलाकार की फिल्म भारतीय सिनेमाघरों में रिलीज नहीं होनी चाहिये. फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ 28 अक्टूबर को भारतीय सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है.

इससे पहले, गुरुवार को फिल्म के निर्माता करण जौहर ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की थी. इस मीटिंग के बाद फिल्मकार मुकेश भट्ट ने बताया कि फिल्म ‘ऐ दिल है मुश्किल’ अपने तय समय पर ही रिलीज होगी.

गृहमंत्री ने आश्वासन दिया कि वह सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से भी इस मामले में बाद करेंगे, जिससे फिल्म की रिलीज के दौरान राज्यों में कानून व्यवस्था में कोई कोताही ना हो.

error: Content is protected !!