छत्तीसगढ़: 40 बैंक खाते seized

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के 40 बैंक खाते से निकासी पर रोक दी गई है. खबरों के अनुसार छत्तीसगढ़ के बस्तर के कांकेर तथा दुर्ग के राजनांदगांव में संदेह के आधार पर इन बैंक खातों से निकासी पर रोक लगा दी गई है. 10 नवंबर से 15 नवंबर के बीच रोज इन खातों में ढ़ाई-ढ़ाई लाख रुपये जमा किये गये हैं. इस तरह से इन खातों में हरेक में 6 दिनों में 15-15 लाख रुपये जमा कराये गये हैं. करीब 40 खातों में 6 करोड़ रुपये जमा हुये हैं.

पुलिस को आशंका है कि यह रकम नक्सलियों की है जिसे 500 और 1000 के नोटों की शक्ल में जमा कराया गया है. पुलिस को शक है कि नक्सली अपने काले धन को नोटबंदी के कारण बर्बाद होने से बचाने के लिये दूसरों के बैंक खाते का उपयोग कर रहें हैं.

इन खातेंदारों से जमा की गई रकम के स्त्रोत बताने के लिये कुछ मोहलत दी गई है. अभी इन खातेंदारों के नाम सार्वजनिक नहीं किये जा रहें हैं.

हालांकि पुलिस ने ऐसे 40 खातों में ट्रांजेक्शन रोकने के लिये बैंक मैनेजरों को निर्देश जारी किया है. नक्सली रकम जमा करने वालों के जान के दुश्मन ना बन जाये और कहीं उन पर पुलिस का मुखबिर होने का आरोप ना लगा दें इस कारण से ऐसे संदेही खातेदारों की जान-माल की रक्षा को लेकर गोपनीयता भी बरती जा रही है.

बस्तर, कांकेर और राजनांदगांव के तमाम मार्गों पर पुलिस का खुफिया तंत्र सक्रिय है. पुलिस मुख्यालय ने नक्सल प्रभावित जिलों के कलेक्टरों तथा पुलिस अधीक्षकों को निर्देश जारी किये हैं कि ग्रामीण इलाकों के जनधन खातों तथा आम खातों पर कड़ी नजर रखें. वैसे भी जनधन खातों में 50 हजार से ज्यादा की रकम जमा करने पर रोक लगी हुई है.

उधर बैंकों के सामने रोजाना जुटने वाली भीड़ इसलिये नदारद हो गई है क्योंकि सादी वर्दी में पुलिस के जवान और मुखबिरों ने मोर्चा संभाल लिया है. पुलिस ने नक्सल प्रभावित इलाकों के तमाम बैंको से 10 नवंबर से 15 नवंबर तक खोले गये नये खातों का ब्यौरा मांगा है.

error: Content is protected !!