10 काले हिरणों की मौत

Friday, June 26, 2015

A A

काला हिरण

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ की राजधानी में आज एक और काले हिरण की मौत हो गई. राजधानी के नंदन वन में पिछले कुछ दिनों से काले हिरणों यानी ब्लैक बक की मौत का सिलसिला जारी है और अब तक 10 हिरणों की मौत हो चुकी है. संकट ये है कि राज्य के वन विभाग के अधिकारी अब तक यह पता करने में असफल रहे हैं कि आखिर हिरणों की मौत क्यों हो रही है.

इन हिरणों के शवों के पोस्टमार्टम से पुष्टि हुई है कि इनकी मौत न तो बैक्टेरिया से हुई है और न ही वाइरस से हुई है. जिससे नंदनवन तथा वन विभाग के आला अफसर निरुत्तर हैं. पिछले पन्द्रह दिनों में एक-एक करके 10 दुर्लभ प्रजाति के आठ काले हिरणों की मौत के बाद भी वन विभाग उनके मौत का कारण बतताने में असमर्थ है.

मृत काले हिरणों के शवों का पोस्टमार्टम कामधेनु विश्वविद्यालय, अंजोरा के पशु चिकित्सकों ने किया. हिरणों की मौत के कारण की जांच करने के लिये भारतीय पशु चिकित्सा तथा अनुसंधान संस्थान के बरेली तथा देहरादून से विशेषज्ञ चिकित्सकों को बुलाया गया है. लेकिन आज उनकी उपस्थिति में एक काले हिरण की मौत हो गई.

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 16 किलोमीटर दूर खारुन नदी के किनारे नंदनवन स्थित है. जहां चार साल पहले दिल्ली के चिड़ियाघर से 10 काले हिरणों का जोड़ा लाया गया था. आठ हिरणों के मौत के बाद भी नंदनवन में करीब 40 काले हिरण हैं.

इससे पहले पिछले साल जनवरी में बिलासपुर के कानन पेंडारी में 23 हिरणों की मौत हो गई थी और आज तक जंगल विभाग यह बताने की स्थिति में नहीं है कि हिरण आखिर कैसे मरे.

Tags: , , , , , , ,