देश की विदेशी पूंजी बढ़ी

Sunday, February 15, 2015

A A

सोने के सिक्के

मुंबई | समाचार डेस्क: भारत के विदेशी पूंजी भंडार में विदेशी मुद्रा भंडार बढ़ने के कारण बढ़ोतरी दर्ज की गई है. उल्लेखनीय है कि विदेशी मुद्रा भंडार में बढ़ोतरी आयात की तुलना में निर्यात बढ़ने से हुआ है. इसी के साथ देश का स्वर्ण भंडार का मूल्य भी 80.53 करोड़ डॉलर बढ़ा है. देश का विदेशी पूंजी भंडार छह फरवरी, 2015 को समाप्त हुए सप्ताह में 2.3299 अरब डॉलर बढ़कर 330.2134 अरब डॉलर दर्ज किया गया, जो 20,401.8 अरब रुपये के बराबर है. भारतीय रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को जो साप्ताहिक आंकड़े जारी किए, उसके अनुसार, विदेशी पूंजी भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा भंडार आलोच्य सप्ताह में 1.6331 अरब डॉलर बढ़कर 304.9581 अरब डॉलर हो गया, जो 18,842.2 अरब रुपये के बराबर है.

बैंक के मुताबिक, विदेशी मुद्रा भंडार को डॉलर में व्यक्त किया जाता है और इस पर भंडार में मौजूद पाउंड स्टर्लिग, येन जैसी अंतर्राष्ट्रीय मुद्राओं के मूल्यों में होने वाले उतार-चढ़ाव का सीधा असर पड़ता है.

आलोच्य अवधि में देश के स्वर्ण भंडार का मूल्य 80.53 करोड़ डॉलर बढ़कर 20.1832 अरब डॉलर दर्ज किया गया, जो 1,246.5 अरब रुपये के बराबर है.

इस दौरान देश के विशेष निकासी अधिकार, एसडीआर का मूल्य 2.18 करोड़ डॉलर बढ़कर 4.0943 अरब डॉलर दर्ज किया गया, जो 252.7 अरब रुपये के बराबर है.

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष में मौजूद देश के भंडार का मूल्य आलोच्य अवधि में 13.03 करोड़ डॉलर घटकर 97.78 करोड़ डॉलर दर्ज किया गया, जो 60.4 अरब रुपये के बराबर है.

Tags: ,