रमन ने पूछा 1000 रु का हेलमेट क्यों नहीं?

Monday, May 16, 2016

A A

रमन सिंह

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा जब 40-45 हजार की बाइक खरीद सकते हैं तो हजार रुपये की हेलमेट क्यों नहीं खरीद सकते हैं. उन्होंने हेलमेट पहनने के प्रति जागरूकता फैलाने के लिये खुद इसे पहनकर दोपहिया वाहन चलाकर विशाल रैली का नेतृत्व किया. उन्होंने तेलीबांधा तालाब परिसर में ट्रैफिक सुरक्षा और जागरूकता अभियान के तहत आयोजित ‘जिन्दगी ना मिलेगी दोबारा’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा- दोपहिया गाड़ी चलाते समय मानव जीवन की सुरक्षा के लिए हेलमेट पहनना बहुत जरूरी है.

डॉ. सिंह ने कहा कि जब हम 40 से 45 हजार रूपए या उससे भी ज्यादा कीमत की बाईक खरीद सकते हैं, तो उसके साथ सिर्फ एक हजार रूपए का एक हेलमेट क्यों नहीं ? उन्होंने कहा- प्रत्येक परिवार को इस पर ध्यान देना चाहिए और अपने युवा होते बच्चों को इस बारे में समझाना चाहिए.

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर हरी झंडी दिखाकर तेलीबांधा तालाब से तेलघानी नाका चौक तक निकाली गई मोटर साईकिल रैली का शुभारंभ किया. यह कार्यक्रम यातायात नियमों और हेलमेट के प्रति जन-जागरण के लिए आयोजित किया गया. रैली में हेलमेट पहनकर महिला और पुरूष दोनों वर्गो के लोग बड़ी संख्या में शामिल हुए.

मुख्यमंत्री रमन सिंह ने मौके पर स्वयं हेलमेट पहनकर रैली के आगे-आगे बाइक चलाते हुए लोगों का उत्साह बढ़ाया. डॉ. सिंह रैली के साथ घड़ी चौक तक पहुंचे. उनके साथ विधान सभा अध्यक्ष गौरी शंकर अग्रवाल, पूर्व विधान सभा अध्यक्ष धरम लाल कौशिक, विधायक श्रीचंद सुन्दरानी और नगर निगम के सभापति प्रफुल्ल विश्वकर्मा सहित कई वरिष्ठ जनप्रतिनिधियों और प्रबुद्ध नागरिकों ने हेलमेट पहनकर रैली में बाइक चलायी.

मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने रैली के शुभारंभ समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि जीवन अनमोल है. हर व्यक्ति को बाइक चलाते समय अपने जीवन की सुरक्षा के लिए हेलमेट पहनना चाहिए. डॉ. सिंह ने कहा कि इस बात को ध्यान में रखकर राज्य सरकार ने भी अपने स्तर पर पूरे प्रदेश में हेलमेट को अनिवार्य करते हुए इसके लिए जागरूकता अभियान शुरू किया है. इससे प्रदेश भर में सड़क हादसों में गंभीर रूप से घायल होने के प्रकरण में 40 से 45 प्रतिशत तक कमी आयी है. हमारा लक्ष्य ऐसे मामलों में शत-प्रतिशत कमी लाने का है.

Tags: , , , ,