‘गरीब के खाते का पैसा गरीब का’

लखनऊ | समाचार डेस्क: पीएम मोदी ने कहा गरीब के खाते का पैसा उसी का हो जायेगा. शनिवार को परिवर्तन रैली को संबोधित करते हुये नोटबंदी के बाद से जनधन खातों में जमा हो रहे पैसों पर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि गरीब के खाते में जो पैसा डाला जा रहा है वह गरीब का हो जायेगा.

उन्होंने कहा कि “मैं कोशिश कर रहा हूँ जिन्होंने गरीब के बैंक खाते में गैर क़ानूनी तौर से रुपया डाला है वो जाये जेल में और रुपया मेरे गरीब के घर में.” इसी के साथ उन्होंने किसानों का भी जिक्र किया. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि “मैं किसानों को सलाम करता हूँ कि तकलीफ के बाद भी बुवाई में कमी नहीं आने दी, पिछले साल से बुवाई बड़ी है.”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि जो बेईमान लोग उसमें पैसा डाल रहे हैं उनको सजा होगी. पीएम ने अपील की कि जिन गरीबों के जनधन खातों में पैसे आ गये हैं वे उनमें से निकाले नहीं. इससे पहले उन्होंने कहा कि काफी दिनों बाद मुराबाद आये इसलिए झिझक रहे थे. लेकिन, यहां काफी प्यार मिला है. साथ ही उन्होंने कहा कि बड़े राज्यों से गरीबी को हटायेंगे तभी देश संपन्न होगा.

उन्होंने कहा कि विकास बहुत जरूरी है. विकास होगा तभी बच्चे स्कूल जा सकेंगे और जरूरतमंदों को दवा मिल सकेगी. साथ ही उन्होंने कहा कि जिस मुरादाबाद के पीतल से पूरे देश के घर चमक रहे हैं वो शहर अंधेरे में है. उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान से अगर गरीबी को मिटाना है तो सबसे पहले बड़े राज्यों से गरीबी को हटाना होगा.

प्रधानमंत्री ने कहा कि जितनी तेजी से बड़े राज्यों से गरीबी दूर होगी उतनी ही तेजी से देश आगे बढ़ेगा. देश से अगर गरीबी को खत्म करना है तो सबसे पहले उत्तरप्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल जैसे बड़े राज्यों से गरीबी को समाप्त करना होगा.

पीएम ने कहा घोषणायें करने वाली सरकारें तो बहुत आयी लेकिन, हिसाब देने वाली ये पहली सरकार है, जो जनता को पाई-पाई का हिसाब दे रही है. उन्होंने कहा कि 950 से ज्यादा गांवों में बिजली के खंभें पहुंचाने का काम पूरा कर लिया गया है. उन्होंने कहा कि यहां आने से पहले बिजली पहुंचा दी है. घोषणा की थी और गांवों में अब प्रकाश आयेगा.

प्रधानमंत्री ने रैली के जरिये नोटबंदी को लेकर उन पर विपक्ष की ओर से किये जा रहे हमलों का जवाब दिया.

One thought on “‘गरीब के खाते का पैसा गरीब का’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!