छत्तीसगढ़: कपड़ा बाजार में सन्नाटा

बिलासपुर | संवाददाता: संभाग के सबसे बड़े कपड़ा बाजार में सन्नाटा छाया हुआ है. बिलासपुर शहर का कपड़ा बाजार श्रीराम क्लाथ मार्केट तथा भक्त कंवर राम मार्केट को बिलासपुर संभाग का सबसा बड़ा कपड़ा बाजार माना जाता है. शादी-ब्याह का सीजन होने के बाद भी यहां सन्नाटा पसरा हुआ है.

यहां के व्यापारियों का कहना है कि पिछले साल की तुलना में उनका व्यापार 80 से 90 फीसदी गिर गया है. पहला शादी के सीजन में यहां खरीददारों तथा गाड़ियों की भीड़ रहा करती थी वहीं आज यहां बंद सा माहौल दिखता है.

व्यापारियों का कहना है कि बाजार में केवल 2000 के नोट होने के कारण से खरीददारी नहीं की जा सक रही है. जब हर खरीददार 2000 के ही नोट देने लगता है तो उनकों वापस देने के लिये 100-100 के नोट कहां से लाये. बाजार में बड़े नोट हैं जबकि छोटे नोट गायब हो गये हैं.

दूसरी तरह एक झटके में देश की 86 फीसदी मुद्रा को अवैध घोषित कर देने से लोगों के पास नगदी की कमी है. इस कारण से वे खरीददारी करने भी नहीं आ रहें हैं. इसके अलावा हर किसी के पास क्रेडिट या डेबिट कार्ड नहीं हैं.

इन कपड़ा दुकानों में स्वाइप की मशीनें भी नहीं लगी हैं. अभी तक सारा कारोबार नगदी पर ही होता आया है.

बिलासपुर के इऩ बाजारों में आस-पास के लोग भी खरीददारी करने आया करते थे जो इस बार नहीं आ रहें हैं.

पहले बिलासपुर के श्रीराम कपड़ा मार्केट में औसतन हर दिन 80-90 लाख का व्यापार होता था जो अब सिमटकर 5-10 लाख पर आ गया है.

व्यापारियों का कहना है कि राज्य के दूसरे कपड़ा बाजारों की हालत इससे जुदा नहीं हैं. पूरा कपड़ा बाजार मंदी की चपेट में हैं.

error: Content is protected !!