विज्ञापन में भाजपा अध्यक्ष पर विवाद

रायपुर | संवाददाता: जनसंपर्क विभाग का विज्ञापन विवादों में पड़ गया है. रमन सरकार के 13 साल पूरे होने पर छत्तीसगढ़ जनसंपर्क विभाग द्वारा जो विज्ञापन जारी किया गया है उसमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की भी तस्वीर लगी हुई है. मरवाही के विधायक अमित जोगी ने इस विज्ञापन पर आपत्ति दर्ज कराई है. उन्होंने इसे आचार संहिता का उल्लंघन बताया है.

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के पुत्र तथा मरवाही से विधायक अमित जोगी ने पूछा है कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह किस संवैधानिक पद पर आसीन है जो उनके आगमन की सूचना सरकारी खर्च पर जारी विज्ञापन में दिया गया है.

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ के सीएमओ कार्यालय द्वारा सोशल मीडिया में जारी किये गये विज्ञापन में भी प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री के तस्वीरों के साथ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की तस्वीर है. सोमवार को अमित शाह ने रायपुर में भाजपा कार्यालय में एक पुस्तकालय का लोकार्पण किया तथा साइंस कॉलेज में कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित किया.

अमित जोगी ने कहा कि अमूमन हर पार्टी अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष के आगमन पर अखबारों में इस तरह के विज्ञापन देती है परन्तु सरकारी विज्ञापन में कैसे किसी राजनीतिक दल के नेता की तस्वीर हो सकती है.

अमित जोगी ने सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का उल्लेख करते हुये कहा कि जो संवैधानिक पद पर नहीं हैं, उनका विज्ञापन सरकारी महकमा जारी नहीं कर सकता है.

उन्होंने राज्य के भिलाई-चरौदा नगर निगम और अन्य नगरीय निकायों में हो रहे निर्वाचन का उल्लेख करते हुये सवाल किया है कि इस स्थिति में कैसे एक सरकारी विभाग द्वारा किसी पार्टी विशेष का विज्ञापन जारी कर सकता है. अमित जोगी ने इसे चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन कहा है.

error: Content is protected !!