मां ने भालू के जबड़े से बेटी को छुड़ाया

अंबिकापुर | संवाददाता: सरगुजा के बलरामपुर में एक साहसी मां ने अपनी दो साल की लड़की को भालू के जबड़े से बचाया. जंगल में लकड़ी बिनने गई मां ने जब देखा कि दो भालू उसकी मासूस बच्ची को जबड़े में पकड़कर झाड़ियों मे ले जा रहे हैं तो वह डंडा लेकर भालूओं पर टूट पड़ी. मार के डर से भालूओं ने बच्ची को छोड़कर भागने में ही भलाई समझी. इस तरह से एक मां के साहस के सामने भालू भी टिक नहीं पाये और भाग खड़े हुये.

मिली जानकारी के अनुसार जिला बलरामपुर के सामरी बहेराटोली की निवासी बाइस्कोप नगेशिया अपनी दो वर्षीया बेटी रंजीता को लेकर जंगल में लकड़ी बिनने गई थी. उसने रंजीता को खेलता छोड़कर लकड़ी बिनना शुरु कर दिया.

इस बीच झाडियों से दो भालू निकलकर आये तथा बच्ची को जबड़े में पकड़ ले जाने लगे. भालू द्वारा जबड़े में जकड़ने से बच्ची रंजीता चीख पड़ी. उसकी चीख सुनकर उसकी मां डंडा लेकर दौड़ी तथा भालूओं पर टूट पड़ी. चीख सुनकर लकड़ी बिन रही दो और महिलायें भी वहां पहुंच गई तथा उन्होंने भालूओं पर डंडे से ताबड़तोड़ हमला कर दिया.

इससे घबराकर दोनों भालू बच्ची को छेड़कर जंगल में भाग खड़े हुये. घायल रंजीता को पहले कुसमी के स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती कराया गया था जाहं से उसे अंबिकापुर मेडिकल कॉलेज रिफर कर दिया गया.

error: Content is protected !!