फिर राज्यपाल पर भड़के भूपेश

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आरक्षण को लेकर राज्यपाल पर निशाना साधते हुए कहा है कि क्या राज्यपाल किसी ‘मुहूर्त’ का इंतजार कर रही हैं? राज्यपाल अनुसुइया उइके ने आरक्षण संशोधन विधेयकों की मंजूरी पर किए गए सवालों पर कहा था कि अब मार्च तक इंतजार कीजिए.

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इसी पर टिप्पणी कर रहे थे.

सोमवार को राज्यपाल पर संवैधानिक अधिकारों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाते हुए कहा कि ”मार्च तक क्यों इंतजार करना चाहिए? क्या वह मुहूर्त देख रही हैं? यहां सब परीक्षाएं हो रही हैं. बच्चों को एडमिशन लेना है. व्यापमं की परीक्षाएं होनी हैं. पुलिस में भर्ती होनी है. शिक्षकों की भर्ती होनी है. हेल्थ में भर्ती होनी है. सारी र्भितयां रुकी हुई हैं. और वह रोके बैठी हैं.”

भूपेश बघेल ने कहा, ”यह संविधान में प्राप्त अधिकारों को दुरुपयोग है. मार्च में ऐसा कौन का मुहूर्त निकलने वाला है जिसमें वह करेंगी. वह तो दिसंबर में पास हुआ है और अब तक वह रोके ?हुए बैठी हैं. भारतीय जनता पार्टी चुप है. भाजपा के इशारे पर इसे रोका जा रहा है. यह प्रदेश के युवाओं के साथ अन्याय है.”

गौरतलब है कि दो दिसंबर को आरक्षण से संबंधित विधेयक विधानसभा से पारित होने के बाद उसे राज्यपाल के हस्ताक्षर के लिए भेजा गया था.

कांग्रेस पार्टी ने कहा था कि उसी रात को हस्ताक्षर हो जाए, इसकी कोशिश की जाएगी. लेकिन राज्यपाल के पास विधेयक अभी तक लटका हुआ है.

error: Content is protected !!