सुकमा हमले में 3 गांव शामिल

रायपुर | संवाददाता : सुकमा में हुये नक्सली हमले में तीन गांवों के लोग शामिल थे.अंग्रेजी के अखबार द हिंदू ने सीआरपीएफ के हवाले से यह दावा किया है. सुकमा के बुरकापाल में पिछले महीने माओवादियों के हमले में सीआरपीएफ के 25 जवान मारे गये थे.

द हिंदू ने इस हमले की जांच में शामिल एक सीआरपीएफ अधिकारी के हवाले से दावा किया है कि बुरकापाल, चिंतागुफा और कासलपाड़ा गांव के ज्यादातर लोग हमले में ‘अप्रत्यक्ष’ तौर पर शामिल थे. इस अधिकारी की मानें तो ग्रामीणों ने हमलावर नक्सलियों को खाना और पनाह दी. उन्हें नक्सलियों के खौफ के चलते ऐसा करने के लिए मजबूर होना पड़ा. जांच रिपोर्ट के मुताबिक मुठभेड़ खत्म होने के बाद घायल नक्सलियों को कासलपाड़ा गांव के निवासियों ने चिकित्सा मदद पहुंचाई. सीआरपीएफ के सूत्रों का कहना है कि नक्सल-प्रभावित इलाकों में स्थानीय लोगों की इस तरह की भूमिका कोई नई बात नहीं है.


हालांकि स्थानीय ग्रामीणों ने इन आरोपों से इनकार किया है. बुर्कापाल गांव के सरपंच विजय दुला ने ‘द हिंदू’ को बताया, ‘हमले के वक्त गांव में कोई मौजूद नहीं था. सभी लोग फसल कटाई के त्योहार बीजू पोंडम को मनाने के लिए पास के जंगलों में गए थे. हमारे गांव से कोई गोलीबारी नहीं की गई. हम जब लौटे तो हमें गोलियों की आवाज सुनाई दी. लिहाजा हमने खुद को घरों में बंद कर लिया. हमले के बाद छत्तीसगढ़ पुलिस ने चिंतागुफा गांव के पूर्व सरपंच को हमले में शामिल होने के आरोप में हिरासत में लिया था.

नक्सलियों ने दोरनापाल और जगरगुंडा के बीच निर्माणाधीन सड़क में गश्त लगा रही सीआरपीएफ की टीम को निशाना बनाया था. ये 56-किलोमीटर लंबी सड़क पिछले 2 सालों से बन रही है. इसके निर्माण के लिए 18 बार टेडर निकल चुका है. लेकिन कोई ठेकेदार इस काम का जिम्मा उठाने के लिए तैयार नहीं है. लिहाजा अपब तक सिर्फ 10 किलोमीटर सड़क ही बन पाई है. नक्सली पहले भी इस सड़क पर सीआरपीएफ जवानों को निशाना बना चुके हैं. इस इलाके में संचार सुविधाओं की कमी सुरक्षा अभियानों में बड़ा रोड़ा हैं.

सीआरपीएफ की जांच में सामने आया है कि हमले के वक्त नक्सली सीआरपीएफ जवानों से तादाद में कहीं ज्यादा थे. कुछ जवानों को 20 मीटर तक की दूरी से निशाना बनाया गया. पेट्रोलिंग के वक्त सीआरपीएफ की ये टीम दो टीमों में बंटी थी. हर टीम में 36 जवान शामिल थे. इन दोनों टीमों को 4-4 समूहों में बांटा गया था. हर समूह 400-500 मीटर की दूरी पर गश्त लगा रहा था. नक्सलियों ने हमले के दौरान बड़ी तादाद में बच्चों, महिलाओं को बुजुर्गों को ढाल की तरह इस्तेमाल किया. उन्होंने पहले सड़क के एक ओर तैनात जवानों पर गोलियां दागीं. बाद में दूसरी टीम पर धावा बोला.

One thought on “सुकमा हमले में 3 गांव शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!