बैन का विरोध राजनीतिक- नायडू

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: वेंकैंया नायडू ने कहा विरोध राजनीति से प्रेरित है. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय द्वारा एनडीटीवी पर एक दिन के लिये लगाये गये बैन के विरोध में बोलते हुये कहा कि यह विरोध राजनीति से प्रेरित है. उल्लेखनीय है कि गुरुवार को एनडीटीवी पर आये प्राइम टाइम कार्यक्रम के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के निर्णय का व्यापक तौर पर विरोध किया जा रहा है.

एम वेंकैंया नायडू ने ट्वीट करके कहा है प्रेस की स्वतंत्रता महत्वपूर्ण है परन्तु देश की सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया जा सकता.


उन्होंने सवाल किया है देश की सुरक्षा ज्यादा अहम है या टीवी चैनल की टीआरपी.

उन्होंने कहा कि इस साल जनवरी में पठानकोट में सुरक्षा बल के आतंकवाद विरोधी अभियानों का लाइव कवरेज करने के दौरान नियमों का उल्लंघन करने पर एनडीटीवी के खिलाफ प्रस्तावित कार्रवाई को लेकर देरी से हो रही आलोचना स्पष्ट रूप से आधी अधूरी सूचना और राजनीति से प्रेरित है.

नायडू ने बताया कि तीन नवंबर 2016 को सरकार के निर्णय के सार्वजनिक होने के एक दिन बाद ऐसी प्रतिक्रियाएं सामने आयी जो स्पष्ट रूप से बिना बात विवाद पैदा करने की भावना से प्रेरित हैं.

उन्होंने जोर देकर कहा कि लोगों को जानना चाहिए कि 2005-14 के दौरान सप्रंग सरकार ने 21 मामलों में कई टीवी चैनलों को बंद करने का आदेश दिया था. एक दिन से दो महीने की समयावधि के दौरान वयस्क प्रमाणपत्र वाली फिल्म दिखाये जाने वाले 13 मामले थे. उन्होंने बताया कि एक स्टिंग ऑपरेशन दिखाने पर एक चैनल को 30 दिनों के लिए बंद कर दिया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!