शादी के लिये 2.5 लाख रु. टेढ़ी खीर

बिलासपुर | संवाददाता: केन्द्र सरकार के द्वारा शादी वाले घरों के लिये राहत की घोषणा की गई है. लेकिन इसे सुनने से जितनी खुशी होती है बैंक पहुंचने पर वह उतनी ही मासूमियत में तब्दील हो जाती है. दरअसल, शादी के लिये ढ़ाई लाख रुपये नगदी निकालने के दी गई राहत की प्रक्रिया ही इतनी कठिन है दिन में तारे नज़र आ जायेंगे.

नोटबंदी की घोषणा के बाद बैंकों से नगद निकाले जाने वाली नगदी पर बंदिशें लगा दी गई है. माना जा रहा है कि रिजर्व बैंक के पास वैध नगदी की समस्या है. 500 और 1000 रुपये के नोट तो बंद करा दिये गये हैं परन्तु उसके बदले में 2000 रुपये तथा 500 के नये नोट उपलब्ध नहीं है. नतीजन, सरकार ने नगदी की निकासी पर अंकुश लगा दिये हैं.


यह अंकुश कितने दिन जारी रहेगा कोई ठोस रूप से बता नहीं पा रहा है. इस बीच सरकार ने शादी वाले घरों में वर या वधू के माता या पिता के बैंक खाते से एक साथ ढ़ाई लाख रुपये की नगदी निकासी की छूट दी है.

परन्तु बैंक जाने पर पता चलता है कि इसके लिये शादी के कार्ड के साथ, शपथ पत्र, दो गवाह, बैंक खाते की फोटो कापी तथा पहचान पत्र की आवश्यकता होती है. इसके बाद भी देश बंटवारे के समय जैसी हुई भीड़ से निपटने के बाद बैंक अधिकारी मौके पर जाकर तहकीकात करेंगे. पास-पड़ोस से पूछताछ करेंगे.

इस विषय पर बिलासपुर के स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के रीजनल मैनेजर शेखर शुक्ला का कहना है कि तय मापदंड के आधार पर आवेदकों को शादी के लिये 2.50 लाख रुपये निकालने की अनुमति दी जायेगी. इसके लिये प्रक्रिया के तहत कार्यवाही की जायेगी.

अब शादी वाले इन शर्तो को पूरा करे कि शादी की तैयारी करें. दूसरी तरफ वर-वधू के चाचा-मामा-बुआ-दादा-दादी-नाना-नानी-भाई-बहन शादी के नाम पर 2.5 लाख की नगदी नहीं निकाल पायेंगे. यह राहत केवल वर-वधू के माता-पिता के लिये घोषित की गई है.

आजकल मध्यम वर्ग के यहां भी शादी 2.5 लाख रुपये नगद में नहीं होती है. कई तरह के खर्चे करने पड़ते हैं. क्या गहने, कैटरर, टेंट हाऊस, शादी घर वाले अपना भुगतान चेक से लेने के लिये तैयार हैं.

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अभिवाहकों के हाथ में सरकार द्वारा की गई घोषणा के अनुरूप ढ़ाई लाख रुपये नगद पहले आ जाये. उसी के बाद बाकी का भुगतान चेक से किया जा सकता है. कुछ लोग सरकार पर तंज कस रहे हैं कि अब तो पंडितों को भी स्वाइप मशीन लेकर चलना पड़ेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!