cbse: 90% मूल्यांकन लिखित टेस्ट पर

रायपुर | संवाददाता: cbse के परीक्षा का पैटर्न अगले सत्र से बदलने जा रहा है. सेन्ट्रल बोर्ड ऑफ सेंकेंडरी एजुकेशन के आगामी शैक्षणिक सत्र से परीक्षाफल 90 फीसदी लिखित टेस्ट तथा 10 फीसदी नोटबुक तथा विषय संवर्धन के आधार पर होगा. यह पैटर्न सीबीएलई के 2017-18 सत्र से लागू होगा. गौरतलब है कि सीबीएसई द्वारा लगातार परीक्षा एवं मूल्यांकन सिस्टम में बदलाव किया जा रहा है. इस साल से 10वीं का बोर्ड फिर से शुरु कर दिया गया है.

अब तक सीबीएसई में परीक्षाफल 60 लिखित तथा 40 फीसदी सालभर शिक्षकों द्वारा विभिन्न गतिविधियों के मूल्यांकन के आधार पर दिया जाता था. इससे उन छात्र-छात्राओं को असुविधा होती थी जो स्कूल बदल लेते थे.


सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने देश भर में 6ठी से 8वीं क्‍लास के एग्‍जामिनेशन पैटर्न में अहम बदलाव किये हैं. ये पैटर्न इसी अकादमिक सत्र से लागू होंगे.

अब साल में दो बार एग्‍जाम्‍स होंगे. टर्म-1 और टर्म-2 के नाम से इन एग्‍जाम्‍स को स्‍कूल लेगा. इसके बाद सभी स्‍कूल एक जैसा रिपोर्ट कार्ड जारी करेंगे. वहीं, क्‍लास 9 का एग्‍जाम बिल्‍कुल क्‍लास 10 की तर्ज पर लिया जायेगा, जिससे बच्‍चे एक साल पहले ही बोर्ड के लिये मानसिक तौर पर तैयार हो सकेंगे.

सीबीएसई के चेयरमैन आरके चतुर्वेदी के मुताबिक सीबीएसई से संबंद्ध स्कूल मूल्यांकन और परीक्षा के अलग अलग तरीके अपना रहे थे, इस वजह से अगर देश में किसी बच्चे को एक स्कूल से दूसरे स्कूल में जाना होता था तो रिपोर्ट कार्ड के आधार पर उसका मेरिट आंकने में स्कूलों को दिक्कत होती थी, लिहाजा इस दिक्कत को दूर करने के लिए सीबीएसई ये कदम उठा रही है, ये सीबीएसई के स्कूलों में परीक्षा और रिपोर्ट कार्ड बनाने में एकरुपता लाने की दिशा में अहम कदम है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!