व्यापमं: 587 लोगों के खिलाफ एफआईआर

भोपाल | एजेंसी: मध्य प्रदेश के व्यापमं घोटाले की जांच कर रहे केद्रीय जांच ब्यूरो ने वर्ष 2012 में हुई पीएमटी में गड़बड़ी के मामले में प्राथमिकी दर्ज की है. इस मामले में 587 लोगों के खिलाफ आरोपी बनाया गया है. वहीं एक अस्वाभाविक मौत को भी प्रारंभिक जांच के दायरे में लिया है. सीबीआई के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, वर्ष 2012 में हुई पीएमटी में रोल नंबर आवंटन, ओएमआर शीट और अन्य गड़बड़ियों में लिप्त व्यापमं के परीक्षा नियंत्रक पकज त्रिवेदी, कंप्यूटर एनालिस्ट नितिन महेंद्रा, तत्कालीन तकनीकी शिक्षा मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा के ओएसडी ओ पी शुक्ला सहित 587 लोगों के खिलाफ धोखाधड़ी, भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, परीक्षा मान्यता अधिनियम, सहित विभिन्न भारतीय दंड विधान की धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है. इस मामले में एसटीएफ 30 अक्टूवर 2013 को भोपाल में प्रकरण दर्ज किया था.

वहीं सीबीआई ने पशु चिकित्सा महाविद्यालय महू इंदौर के छात्र विकास सिंह की अस्वाभाविक मौत को प्राथमिक जांच में लिया है. उसकी मौत की वजह व्यापमं या कुछ और थी यह सीबीआई जांच करेगी. विकास के खिलाफ तीन प्राथमिकी दर्ज थी.


सीबीआई ने सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश पर व्यापमं घोटाले की जांच नौ जुलाई को शुरू की थी. सीबीआई अब तक 19 प्राथमिकी दर्ज कर चुकी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!