बिहार में पूजे जाएंगे तेंदुलकर

Tuesday, November 19, 2013

A A

sachin tendulkar

भभुआ | एजेंसी: ‘क्रिकेट के भगवान’ कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर अब केवल कहने को ही भगवान नहीं होंगे बल्कि अब इनकी विधिवत पूजा भी की जाएगी. बिहार के कैमूर जिले के अतरवलिया गांव में तेंदुलकर के मंदिर का निर्माण कराया गया है.

उल्लेखनीय है कि मंदिर का निर्माण भोजपुरी फिल्म के अभिनेता मनोज तिवारी करा रहे हैं. मंदिर का शिलान्यास मंगलवार को होगा और उसी दिन तेंदुलकर की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा भी होगी.

मनोज तिवारी का मानना है कि इस मंदिर से न केवल तेंदुलकर को सम्मान देने का प्रयास किया गया है बल्कि उदीयमान खिलाड़ियों के लिए यह मंदिर प्रेरणास्रोत भी बनेगा. करीब 70 लाख रुपए की लागत से बनने वाले इस मंदिर में तेंदुलकर की मूर्ति के साथ-साथ भारतीय क्रिकेट टीम के वर्तमान कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और हरफनमौला खिलाड़ी युवराज सिंह की भी मूर्ति स्थापित की जाएगी.

तिवारी ने कहा, “करीब 6,000 वर्ग फुट में बनने वाले इस मंदिर के गर्भगृह में तेंदुलकर की मूर्ति स्थापित की जाएगी, जिसमें वह अपनी नीली जर्सी में होंगे तथा अपने हाथ में विश्पकप खिताब लिए रहेंगे. संगमरमर से बना पांच फुट की इस मूर्ति को राजस्थान के मूर्तिकार खेमराम ने बनाया है.

खेमराम ने कहा कि वर्तमान समय में केवल मंदिर में तेंदुलकर की मूर्ति लगाई जाएगी. बाद में धौनी और युवराज की मूर्ति भी स्थापित की जाएगी. उन्होंने बताया कि वर्तमान समय में मूर्ति 15 फुट ऊंचे चबूतरे पर स्थापित की जाएगी, और उसी दिन से पूजा भी प्रारंभ कर दी जएगी. मूर्ति पर मौसम के परिवर्तन का प्रभाव न पड़े, इसका भी ख्याल रखा जा रहा है.

तिवारी ने कहा कि मंदिर में जैसे भगवान की पूजा की जाती है, उसी तरह पूरे रीति-रिवाज से प्रतिदिन तेंदुलकर की पूजा होगी और आरती की जाएगी. तिवारी ने फिर बताया कि इस अवसर पर उन्होंने तेंदुलकर को भी बुलाने की योजना बनाई थी. परंतु अधिक व्यस्तता के कारण तेंदुलकर नहीं आ सकेंगे.

तिवारी ने बताया कि इससे पहले इस मंदिर को 2014 में बनवाने की योजना थी. परंतु तेंदुलकर के इसी वर्ष संन्यास ले लेने के कारण मंदिर बनवाने का कार्य इसी वर्ष प्रारंभ करना पड़ा.

उल्लेखनीय है कि बीते शनिवार को समाप्त हुए अपने 200वें टेस्ट के साथ तेंदुलकर ने सक्रिय क्रिकेट को अलविदा कह दिया. शनिवार को ही सरकार ने भी तेंदुलकर को सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ देने की घोषणा की.

Tags: , ,