कौन बनेगा मुख्यमंत्री ?

Wednesday, December 2, 2015

A A

अजीत जोगी

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ की कांग्रेस पार्टी का झगड़ा अब चरम पर है. राज्य में विधानसभा चुनाव अभी बहुत दूर हैं लेकिन कांग्रेस पार्टी में मुख्यमंत्री पद को लेकर हंगामा मचा हुआ है. बात इस हद तक बढ़ गई है कि बोल-कुबोल के सारे भेद मिट गये हैं. इस झगड़े को लेकर राज्य भर में एक ही जुमला तारी है कि सूत न कपास, जुलाहों में लट्ठम-लट्ठ.

असल में राज्य में कांग्रेस पार्टी के साथ-साथ अजीत जोगी का समानांतर गुट रमन सिंह के सत्ता में आते ही बन गया था. आज की तारीख में भी राज्य भर में अधिकांश कांग्रेसी नेताओं की पहचान कांग्रेस गुट और जोगी गुट के रुप में है.

राज्य में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष भूपेश बघेल और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के बीच लगातार तनातनी चलती रही है. दोनों एक दूसरे की समझ पर सवाल खड़े करते रहे हैं. हालत ये हुई है कि पिछले कुछ सालों में कई बार अजीत जोगी के पार्टी से बाहर किये जाने या बाहर होने की अटकलें भी लगती रही हैं. लेकिन यह बात अटकलों में ही रह गई.

अब ताज़ा विवाद विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव के बयान के बाद शुरु हुआ है, जिससे अजीत जोगी बुरी तरह से तिलमिलाये हुये हैं. सिंहदेव के बयान से नाराज़ अजीत जोगी ने साफ कर दिया है कि वे किसी को भी बर्दाश्त करने के मूड में नहीं हैं.

सिंहदेव ने एक चैनल से बातचीत में कहा कि राज्य में कांग्रेस पार्टी अगला विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री का नाम तय कर के लड़ सकती है. इसके लिये उन्होंने कई नाम गिनाये. इन नामों में भूपेश बघेल, चरणदास महंत, सत्यनारायण शर्मा, रवींद्र चौबे और खुद का नाम भी गिनाया. इशारों-इशारों में यह बात भी कह दी कि अब मोतीलाल वोरा और अजीत जोगी का समय खत्म हो चुका है.

सिंहदेव का यह बयान ही जोगी खेमें में भूचाल ले आया. जोगी के प्रवक्ता ने आनन-फानन में बयान जारी किया. जोगी की ओर से जारी इस बयान में कहा गया कि श्री सिंहदेव यह पता होना चाहिए कि कांग्रेस में पार्टी हाई कमान द्वारा ही प्रत्याशियों के घोषणा की परंपरा रही है. उन्होंने उन्हें लोकतंत्र की बात भी याद दिलाते हुए कहा कि यहां राजतंत्र अब नहीं चलता.

भड़के हुये अजीत जोगी ने कहा कि सिंहदेव को पता होना चाहिये कि अब रानी की कोख से राजा नहीं पैदा होता. अब लोकतंत्र है और लोक तंत्र में जनता राजा तय करती है.

गौरतलब है कि सिंहदेव सरगुजा राज परिवार से हैं और ग्रामीणों में अब भी उन्हें एक राजा की तरह ही देखा जाता है. ऐसे में अजीत जोगी का बयान सीधे-सीधे सिंहदेव पर व्यक्तिगत हमले की तरह माना जा रहा है.

राज्य में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष भूपेश बघेल फिलहाल अपने पारिवारिक कार्यक्रम में व्यस्त हैं और उनकी ओर से इस मुद्दे पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. लेकिन सिंहदेव पर हमले के बाद माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में जोगी के खिलाफ फिर से शिकायतों का सिलसिला शुरु होगा. ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि अपनी तरह से पार्टी लाइन तय करने वाले अजीत जोगी के खिलाफ शीर्ष नेतृत्व कोई कार्यवाही करेगा या फिर जोगी के मामले में चुप्पी साध ली जाएगी.

Tags: , , , , ,