रायपुर में मोदी पर हमले की योजना थी

Monday, December 16, 2013

A A

नरेंद्र मोदी

रायपुर | संवाददाता: रायपुर में आतंकी संगठन सिमी के कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के बाद आए दिन नए खुलासे हो रहे हैं. पुलिस ने दावा किया है कि रिमांड में हुई पूछताछ में सिमी के छत्तीसगढ़ प्रमुख अंसार उमेर सिद्दीकी से उन्हे यह पता चला है कि 14 नवंबर को रायपुर में आयोजित नरेन्द्र मोदी की सभा में उन्हे जान से मारने की साजिश थी.

पुलिस का कहना है कि रायपुर में वारदात के लिए आतंकियों ने दो पिस्टलों का इस्तेमाल करने का विचार बनाया था. इसके लिए एक पिस्टल की व्यवस्था हो गई थी, लेकिन समय पर उसकी डिलीवरी नहीं हो पाई थी. इस वजह से साजिश नाकाम रही.

एडीजी इंटेलीजेंस मुकेश गुप्ता ने सोमवार को संवाददाताओं से बात करते हुए दावा किया कि रायपुर से गिरफ्तार किए गए सिमी के अंसार उमेर सिद्दीकी से पूछताछ में आतंकी गतिविधियों के कई राज सामने आए हैं जिसमें मोदी की 14 नवंबर की चुनावी सभा में मोदी पर हमला करना शामिल है.

उन्होंने कहा कि इसके लिए आतंकी अबदुल्ला उर्फ हैदर अली, अजहरुद्दीन और उमेर सिद्दीकी को जिम्मेदारी सौंपी गई थी. अजहरूद्दीन ने एक पिस्टल की व्यवस्था कर ली थी, लेकिन उसकी डिलवरी समय पर नहीं हो पाई थी.

मुकेश गुप्ता ने कहा कि दूसरे पिस्टल और विस्फोटक सामान की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी अमार पर थी. विस्फोटक सामान रायगढ़ से लाया जाना था. समय पर पिस्टल और विस्फोटक सामान की डिलवरी नहीं होने की वजह से नरेन्द्र मोदी पर हमले की साजिश असफल हो गई थी.

पुलिस का दावा है कि आतंकियों से पूछताछ में यह भी पता चला है कि उन्होंने जगदलपुर में एक एकाउंट भी खुलवाया था, जिसमें एक लाख 40 हजार रुपए जमा कराए गए थे. पुलिस ने इस अकाउंट

पुलिस और एनआईए की रिमांड में आतंकियों से पूछताछ में कुछ और सिमी के संदेहियों के बारे में जानकारी मिलने की बात है.