सांप्रदायिक ताकतों को रोके: मनमोहन सिंह

Saturday, September 21, 2013

A A

मनमोहन सिंह -पूर्व प्रधानमंत्री

नई दिल्ली | एजेंसी: प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि मुजफ्फरनगर में हुई हिसा ‘अत्यंत दुखद घटनाक्रम ‘ है तथा उन्होंने लोगो से आवहान् किया कि इसे खारिज करें. दिल्ली में राष्ट्रीय सांप्रदायिक सद्भावना सम्मान समारोह में प्रधानमंत्री ने कहा, “एक इंसान के रूप में हमारी पहचान धर्मनिरपेक्ष की है. केवल मुट्ठीभर लोग ही अपने स्वार्थ के लिए हमारे बीच भेदभाव पैदा कर रहे हैं.”

समारोह में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने मिजोरम की सामाजिक कार्यकर्ता खामलिना और ओडिशा के मोहम्मद अब्दुल बारी को वर्ष 2011-12 के लिए सांप्रदायिक सद्भावना सम्मान प्रदान किया. उन्होंने कहा, “मैं यह भी मानता हूं कि ऐसी ताकतों का विरोध करना हम में से हर एक का कर्तव्य है.”

संस्था वर्ग में यह सम्मान दिल्ली के फाउंडेशन फॉर एमिटी एंड नेशनल सोलिडरिटी को दिया गया.

मनमोहन सिंह ने कहा, “हम आज देश के कुछ हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव चरम पर पहुंचने के बीच यहां जुटे हैं. यह अत्यंत दुखद घटनाक्रम है.” उन्होंने कहा, “हाल की घटनाओं के मद्देनजर हम सब का दायित्व है कि समाज में सद्भाव और मैत्री की भावना को बढ़ावा देने की निजी और सामूहिक जिम्मेदारी का प्रदर्शन करें.”

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत अपनी विविधताओं के लिए जाना जाता है और इस देश के पास ‘सहिष्णुता की अत्यंत गौरवशाली’ विरासत भी है. उन्होंने कहा, “भारत एक ऐसा देश है जहां सदियों तक विभिन्न धर्म विकसित हुए और उन्होंने एक दूसरे समृद्ध किया है.”

प्रधानमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार सांप्रदायिक सौहार्द कायम रखने का हर संभव प्रयत्न करने में जुटी है.

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय एकता परिषद की बैठक 23 सितंबर को आयोजित की जाएगी जिसमें ‘इस बुराई को खत्म करने के उपाय और मार्ग तलाशा जाएगा.’

प्रधानमंत्री ने कहा कि सम्मानित किए गए दोनों व्यक्तियों ने दृष्टांत योग्य काम किए हैं जिस पर हर किसी को गर्व हो सकता है.

इस मौके पर राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा, “सांप्रदायिकता हमारे समाज से दूर हटती नहीं दिख रही है.” उन्होंने कहा, “ऐसा इसलिए है क्योंकि हम अपने ही इतिहास से सबक क्यों नहीं सीखते, बल्कि बार-बार वही गलती दोहरात रहते हैं.”

उन्होंने कहा, “यद्यपि सामाजिक शांति और सौहार्द कायम रखना सरकार का काम है, फिर भी इसकी जिम्मेदारी को हर नागरिक के कर्तव्य से पृथक नहीं की जा सकती.”

राष्ट्रपति ने कहा कि सौहार्द और सहिष्णुता भारतीय लोकाचार, परंपरा और इतिहास की बुनियाद हैं. उन्होंने कहा, “इसी विरासत के दम पर भारत ने अपने अंक में विभिन्न धर्मो, सुधार आंदोलनों और सदी तक हमारी चेतना को प्रभावित करने वाले पुनर्जागरण को समेटा और अपनाया.”

राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने कहा, “हमारे संविधान ने सभी भारतीयों के बीच सौहार्द और भाईचारे की भावना को प्रोत्साहित करने के लिए धर्म, भाषा और क्षेत्र या सामुदायिक विविधता को परे रखते हुए हर नागरिक के बुनियादी कर्तव्य को रेखांकित किया है.”

ज्ञात्वय रहें कि पिछले दिनें उत्तरप्रदेश के मुजफ्फरनगर में हुई हिंसा में 40 से ज्यादा जाने गई थी और हजारों लोगों को अपना घर-बार छोड़कर शिविरों में शरण लेना पड़ा है.

Tags: , ,