हिंदू मंदिर हमले पर ओबामा निशब्द!

Wednesday, February 18, 2015

A A

बराक ओबामा-अमरीकी राष्ट्रपति

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: अमरीका में हिन्दू मंदिर पर हमले के मामले में राष्ट्रपति बराक ओबामा अब तक चुप हैं. उनकी इस चुप्पी पर भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने सवाल उठाये हैं. कांग्रेस ने मंगलवार को कहा कि वाशिंगटन में हिंदू मंदिर पर हमला अमरीका के लिए कलंक है और भारत द्वारा इस मामले में कोई प्रतिक्रिया न जताने पर आश्चर्य जताया. कांग्रेस नेता पी.सी. चाको ने कहा, “मैं इस बात को लेकर आश्चर्यचकित हूं कि अमरीकी राष्ट्रपति ने इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है और भारत सरकार ने भी कोई प्रतिक्रिया नहीं व्यक्त की है.”

उन्होंने कहा, “यह अमरीका के लिए कलंक है. यह चौंकानेवाला है. अमरीका सबको एक साथ लेकर चलने का दावा करता है. यदि भारत में ऐसा कुछ होता, तो वे निश्चित तौर पर प्रतिक्रिया देते.”

चाको ने कहा, “जो भी हुआ है, वह बिल्कुल स्वीकार्य नहीं है. मंदिर में तोड़फोड़ करने वालों पर अमरीकी अधिकारियों को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए और एक बयान जारी करना चाहिए.”

उल्लेखनीय है कि वाशिंगटन में एक मंदिर में तोड़फोड़ की गई, जहां महाशिवरात्रि का समारोह आयोजित किया जाना था. सिएटल से करीब 36 किलोमीटर दूर बॉथेल स्थित हिन्दू टेम्पल कल्चरल सेंटर के सदस्य रविवार को जब वहां पहुंचे तो उन्होंने वहां ‘स्वस्तिक’ के निशान पर ‘गेट आउट’ लिखा देखा.

सीएटल में एनबीसी से संबद्ध किग 5 टीवी के मुताबिक, “नाजियों द्वारा अपनाए जाने से पहले से ही ‘स्वस्तिक’ हिंदू धर्म का महत्वपूर्ण प्रतीक चिह्न् है, जो शांति का प्रतीक है. मंदिर प्रबंधकों का कहना है कि अब ‘स्वस्तिक’ का इस्तेमाल न केवल उनके यकीन, बल्कि आसपास रहने वालों के विश्वास एवं भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए भी किया जाने लगा है.”

बॉथेल में मंदिर पर हमले अमरीका के राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा भारत में धार्मिक असहिष्णुता के मुद्दे पर दिए गए बयान के 10 दिनों के बाद हुआ है. ओबामा ने कहा था कि यदि आज महात्मा गांधी जीवित होते तो उन्हें भारत में सभी धर्मो के बीच असहिष्णुता देख कर हैरान हो जाते.

स्नोहोमिश काउंटी शेरिफ के प्रवक्ता शेरी एल. इरटन ने बताया कि इस घटना की जांच की जा रही है, लेकिन अभी तक किसी संदिग्ध की पहचान नहीं की जा सकी है.

Tags: , , , ,