प्राकृतिक गैस: निजी कंपनियों को झटका

Sunday, October 19, 2014

A A

अरुण जेटली-वित्त मंत्री

नई दिल्ली | एजेंसी: निजी कंपनियों की मांग को दरकिनार करते हुए सरकार ने शनिवार को प्राकृतिक गैस का नया मूल्य 5.61 डॉलर प्रति यूनिट निर्धारित कर दिया है. सरकार का यह निर्णय गैस उत्खनन करने वाली निजी कंपनियों के लिए झटका माना जा रहा है खासकर मुकेश अंबानी के लिये. उल्लेखनीय है कि निजी कंपनियां इसकी कीमत कम से कम आठ डॉलर प्रति यूनिट से थोड़ा अधिक करने की मांग कर रही थीं. जिसके खिलाफ आम आदमी पार्टी ने सबसे पहले आवाज़ उठाई थी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई मंत्रिमंडल की बैठक में लिए गए निर्णय में प्राकृतिक गैस मूल्य 4.2 डॉलर प्रति यूनिट से बढ़ाकर 5.61 डॉलर प्रति यूनिट कर दिया गया है. जनवरी में तत्कालीन मनमोहन सिंह सरकार द्वारा लिए गए एक निर्णय में गैस मूल्य 4.2 डॉलर प्रति यूनिट को दोगुना करने का फैसला किया गया था. लेकिन वह फैसला अधिसूचित नहीं हो सका था. नई दर पहली अप्रैल से लागू होने वाली थी, लेकिन चूंकि सरकार निर्णय को अधिसूचित करने वाली थी, लिहाजा निर्वाचन आयोग ने सरकार से कहा कि आम चुनाव पूरा होने तक इसे यथावत रखा जाए.

केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंत्रिमंडल की बैठक के बाद संवाददाताओं से कहा, “प्राकृतिक गैस की पुरानी दर 4.2 डॉलर प्रति यूनिट थी. रंगराजन समिति ने एक खास मानदंड अपनाया और 8.4 डॉलर प्रति यूनिट की एक दर घोषित कर दी, जिसे पहली अप्रैल, 2014 से लागू किया जाना था, लेकिन निर्वाचन आयोग ने उसके क्रियान्वयन पर रोक लगा दी ताकि नई सरकार मामले पर कोई निर्णय ले सके.”

जेटली ने कहा, “हमने पूरे मानदंड की समीक्षा की. हमने उन विभिन्न बिंदुओं की पड़ताल की जिन पर विचार किया गया है. हमने उन विभिन्न बिंदुओं की भी पड़ताल की, जिन्हें नजरअंदाज कर दिया गया है. मंत्रिमंडल ने सचिवों की समिति की रपट को मंजूरी दी. अब कीमत 5.61 डॉलर प्रति यूनिट तय की गई है.”

Tags: , , , ,