अमरीका मे ओबामा, शरीफ, शेख हसीना से वार्ता: मनमोहन

Wednesday, September 25, 2013

A A

मनमोहन सिंह -पूर्व प्रधानमंत्री

नई दिल्ली | एजेंसी: प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह अपनी पॉच दिवसीय अमरीका यात्रा पर बुधवार को रवाना हो गयें हैं. वह अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से 27 सितंबर को वाशिंगटन में मुलाकात करेंगे. बताया जा रहा है कि 29 सितंबर को मनमोहन सिंह संयुक्त राष्ट्र महासभा के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मुलाकात करेगें. मनमोहन सिंह न्यूयार्क में बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना के साथ भी मुलाकात करेंगे.

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा, “भारत के लिए अमरीका प्रौद्योगिकी, निवेश, नवप्रवर्तन और संसाधन का मुख्य स्रोत रहा है और हमारी वस्तुओं और सेवाओं के मुख्य आयातकों में से है. हम व्यापार, निवेश, रक्षा, आतंकवाद विरोधी अभियान, खुफिया सूचना, आतंरिक सुरक्षा, स्वास्थ्य, उच्च शिक्षा, अंतरिक्ष, विज्ञान और प्रौद्योगिकी एवं संस्कृति के क्षेत्र में लाभकारी और गहरे साझेदार रहे हैं.”

अमरीका की यात्रा पर जाने से पूर्व मनमोहन सिंह ने कहा कि अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ उनकी शिखर बैठक द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा करने और भविष्य के सहयोग के मार्ग की रुपरेखा खींचने का एक अवसर होगा. सूत्रो के अनुसार मनमोहन-शरीफ बैठक 29 सितंबर को होने की संभावना है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत-अमरीकी संबंध वैश्विक कूटनीतिक रिश्ते में पूरी तरह तब्दील हो गया है. अमरीका के उप राष्ट्रपति जो बाइडेन और विदेश मंत्री जॉन केरी के दौरे के साथ-साथ द्विपक्षीय उच्च स्तरीय बैठक में तेजी आने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि यह हमारी वचनबद्धता की मजबूत गति को प्रस्तुत करता है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि 28 सितंबर को महासभा में अपने संबोधन में वह 2015 के बाद के विकास के मुख्य एजेंडा गरीबी उन्मूनल कार्यक्रम को बरकरार रखने के महत्व और संयुक्त विकास पर जोर डालेंगे.

उन्होंने कहा कि भारत वैश्विक राजनीतिक और आर्थिक शासन प्रणाली के साथ-साथ सुरक्षा परिषद में जल्द सुधार लाए जाने पर जोर डालेगा.

प्रधानमंत्री ने कहा, “मेरी न्यूयार्क यात्रा के दौरान, मैं बांग्लादेश, नेपाल और पाकिस्तान सहित हमारे पड़ोसी देशों के नेताओं के साथ द्विपक्षीय बातचीत करने पर ध्यान दूंगा.”

गौर तलब है कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की इस यात्रा में पड़ोसी देशो से संबंध सुधारने पर जोर देगें दूसरी ओर उनका ध्यान निवेश को आकर्षित करना भी है.

Tags: , , ,