भारत में नौकरियों के अवसर में कमी

Tuesday, April 2, 2013

A A

उत्तर प्रदेश में बांध के नाम पर अरबों खर्च

नई दिल्ली | संवाददाता: भारत में नौकरियों के अवसर में भारी गिरावट आई है. एसोसिएटेड चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री यानी एसोचैम द्वारा जारी किये गये सर्वेक्षण के नतीजों के अनुसार देश में नौकरियों के अवसर में 14.1 प्रतिशत की कमी आयी है. अक्टूबर-मार्च 2011-12 की तुलना में 2012-13 में यह कमी दर्ज की गई है. एसोचैम ने इसका कारण धीमी औद्योगिक रफ्तार को माना है.

2012-13 के वित्तीय वर्ष में 5.38 लाख नई नौकरियां दी जा सकीं, जिसमें प्रथम छमाही में 2.65 लाख तथा द्वितीय छमाही में 2.73 लाख नौकरियां मिलीं. ये नौकरियां भी महानगरों में ही केन्द्रित रही. द्वितीय छमाही में सबसे ज्यादा नौकरी दिल्ली में 66,000, बैंगलुरु में 40,000, मुंबई में 35,000, चेन्नई में 21,000 तथा हैदराबाद में 20,930 मिलीं.

यदि उद्योगवार देखा जाए तो सूचना प्रौद्योगिकी अव्वल नंबर पर रहा. उसके बाद अकादमियों, वित्तीय संस्थाओं, बैंकिंग, आटोमोबाईल, मैन्यूफैक्चरिंग, इंजीनियरिंग तथा आई टी हार्डवेयर का स्थान आता है. लेकिन पिछले कुछ सालों में कंप्यूटराइजेशन और बाजार के नये तौर-तरीकों ने नौकरी के अवसर को और कम कर दिया है.

Tags: , , , ,