इस्लामाबाद, बीजिंग का सहयोगी: जिनपिंग

Tuesday, April 21, 2015

A A

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग

इस्लामाबाद | समाचार डेस्क: पाकिस्तान के संसद को संबोधित करते हुये शी जिनपिंग ने याद दिलाया कि इस्लामाबाद ने बुरे वक्त पर बीजिंग का साथ दिया था. चीन के राष्ट्रपति की पाक यात्रा भारत के लिये रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण है. उल्लेखनीय है कि चीन तथा पाकिस्तान दोनों भारत के पड़ोसी देश हैं तथा दोनों से भारत की सीमा विवाद को लेकर युद्ध हो चुका है. पाकिस्तान की दो दिवसीय यात्रा पर इस्लामाबाद पहुंचे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने मंगलवार को पाकिस्तानी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए कहा कि इस्लामाबाद ऐसे समय में बीजिंग के साथ खड़ा रहा, जब चीन वैश्विक मंच पर अकेला था. वेबसाइट डॉन ऑनलाइन के मुताबिक, शी ने चीन के 1.3 अरब लोगों की तरफ से पाकिस्तान के अपने भाइयों को शुभकामनाएं दी. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ऐसे समय में चीन के साथ खड़ा रहा, जब वह वैश्विक मंच पर अकेला पड़ गया था.

शी चीन के पहले राष्ट्रपति है, जिन्होंने पाकिस्तानी संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित किया. वह सोमवार को अपनी पहली पाकिस्तान यात्रा पर इस्लामाबाद पहुंचे थे. नौ साल बाद किसी चीनी राष्ट्रपति द्वारा की गई यह पहली बहुप्रतीक्षित यात्रा है.

उन्होंने कहा, “पाकिस्तान और चीन के संघर्षो ने उनके मन और मस्तिष्क को एक साथ ला खड़ा किया है.”

उन्होंने कहा कि बीजिंग और इस्लामाबाद को एक-दूसरे का अभूतपूर्व सहयोग मिला है. दोनों ही देश जरूरत के समय एक-दूसरे के साथ खड़े रहे हैं.

उन्होंने प्राकृतिक आपदाओं के समय भी एक-दूसरे को दी जाने वाली सहायता का भी उल्लेख किया.

उन्होंने कहा, “पाकिस्तान पहला ऐसा देश है, जिसकी मैंने इस साल यात्रा की है. आपके देश में यह मेरी पहली यात्रा है, लेकिन पाकिस्तान से मैं बिल्कुल भी अनभिज्ञ नहीं हूं.”

उन्होंने पाकिस्तान के आतंकवाद विरोधी प्रयासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि पाकिस्तान ने विपदा के समय अदम्य साहस का परिचय दिया है.

पाकिस्तानी संसद के संयुक्त सत्र में चीन की प्रथम महिला पेंग लियुआन, राज्यों के मुख्यमंत्रियों, गवर्नरों, सैन्य प्रमुखों, राजनयिकों और अन्य महत्वपूर्ण हस्तियों ने भी हिस्सा लिया.

पाकिस्तान और चीन ने सोमवार को विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग के 51 समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए. चीन के राष्ट्रपति 45 अरब डॉलर की निवेश योजना की भी घोषणा करेंगे, जिससे पाकिस्तान को अपने ऊर्जा संकट को समाप्त करने और स्वयं को क्षेत्रीय आर्थिक केंद्र के रूप में बदलने में मदद मिल सकती है.

Tags: , , , ,