‘चुपके-चुपके’ अभिनय करेंगे गुलाम अली

Thursday, January 21, 2016

A A

गुलाम अली-गज़ल गायक

नई दिल्ली | मनोरंजन डेस्क: गज़ल दी दुनिया के ‘छोटे मि़या’ गुलाम अली ‘चुपके-चुपके’ फिल्म ‘घर वापसी’ में अभिनय करेंगे. पाकिस्तान के प्रसिद्ध गजल गायक गुलाम अली अब हिंदी फिल्म ‘घर वापसी’ के साथ अभिनय के क्षेत्र में कदम रखने की तैयारी में हैं. फिल्म का निर्माण और निर्देशन सुहैब इलियासी कर रहे हैं. अली ने फिल्म के लिए एक देशभक्ति के गीत की धुन बनाई है और उसे अपनी आवाज भी दी है.

गुलाम अली यहां फिल्म में अपने किरदार की आवाज डब करने के लिए आए हुए हैं. अली यहां मंगलवार को एक स्टूडियो में अभिनय को लेकर काफी उत्साहित दिखे. यह उनके लिए नया विषय है.

अली ने एक साथ बातचीत में कहा, “यदि मैं लगातार तीन-चार या इससे अधिक दिन अभिनय करता रहूं, तो मैं एक पेशेवर अभिनेता बन सकता हूं. मुझे लगता है कि गायन बहुत आसान है.” अली डबिंग के दौरान काफी उत्साहित दिखाई दिए.

डबिंग के दौरान वह अपने गायन कौशल का प्रदर्शन भी करते रहे, और उन्होंने कहा कि अभिनय की हामी उन्होंने सिर्फ इलियासी के कारण भरी, जिन्हें वह छोटा भाई मानते हैं.

गुलाम अली अपनी आवाज और गायन शैली के लिए पूरी दुनिया में जाने-माने जाते हैं. पिछले सप्ताह उन्होंने कोलकाता में खचाखच भरे एक स्टेडियम में प्रस्तुति दी थी. इसके तीन महीने पहले मुंबई में उनका कार्यक्रम रद्द कर दिया गया था, क्योंकि शिव सेना ने उनका कार्यक्रम बाधित करने की धमकी दी थी.

फिल्म ‘घरवापसी’ में गुलाम अली ने ‘अपनी मिट्टी की खुशबू है रगो में ये बसी है चूमेंगे इसको शान से, हमको तो प्यारा है ये वतन, अपनी जान से’ नामक गीत की धुन भी बनाई है और इसे अपनी आवाज दी है.

फिल्म में आलोक नाथ, फरीदा जलाल, रीमा लागू, दीपक तिजोरी और जरीना वहाब जैसे सितारे हैं. इसके अलावा सुनिधि चौहान, सोनू निगम, शान और गुलाम अली जैसे गायकों ने भी इसमें योगदान दिया है.

अली फिल्म के संगीत लांच के लिए 29 जनवरी को मुंबई में होंगे.

इलियासी को आशा है कि संगीत लांच समारोह शांतिपूर्वक संपन्न हो जाएगा.

उन्होंने कहा, “मुझे आशा है कि ‘घर वापसी’ का संगीत लांच समारोह बगैर किसी परेशानी के शांतिपूर्वक और सफलतापूर्वक संपन्न हो जाएगा.”

उन्होंने कहा, “दोनों देशों की सरकारें और प्रधानमंत्री दोनों देशों के लोगों को करीब लाने के लिए राजनीतिक रूप से इच्छुक हैं. संगीत, कला और संस्कृति संबंधों को आकार देने में प्रमुख भूमिका निभाते हैं.”

Chupke Chupke – Ghulam Ali-

Tags: ,