आदिवासियों की घटती जनसंख्या चिंताजनक: नेताम

Saturday, May 11, 2013

A A

अरविंद नेताम

जगदलपुर: पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरविन्द नेताम ने बस्तर संभाग मे आदिवासियों की जनसंख्या दर घटने पर चिंता जताते हुए इस मामले की जांच करने की मांग छत्तीसगढ़ की रमन सरकार से की है. पत्रकारों से बातचीत करते हुए नेताम ने कहा कि विचारणीय विषय है कि जब पूरी दुनिया की आबादी बढ रही है तो बस्तर संभाग मे आदिवासियो की जनसंख्या क्यो घट रही है?

नेताम के अनुसार राज्य सरकार को इस विषय पर गंभीरता से सोचना चाहिए साथ ही इस मामले मे शीघ्र सर्वे करके आदिवासी समाज और आदिवासी मामलों के जानकारो की तत्काल बैठक बुलाने की जरूरत है. नेताम ने यह भी कहा कि वे स्वयं इस मामले में पहल करेंगे और अदिवासी समाज के लोगों के साथ इस बारे में चर्चा करने के लिए बैठक बुलाएंगे.

उल्लेखीय है कि इससे पहले भी राज्य में आदिवासियों की चौंकाने वाली जनसंख्या वृद्धि दर ने सरकार को चिंता में डाल दिया था. 2011 की जनगणना के आरंभिक आंकड़ों के अनुसार राज्य के आदिवासी बहुल जिलों में जनसंख्या वृद्धि दर काफी कम है. स्थिति की गंभीरता को देखेते हुए राज्यपाल शेखर दत्त ने राज्य सरकार से जनसंख्या के विस्तृत आंकड़े तलब किये थे.

सरकारी आंकड़ों में 2011 की जनगणना के जो आरंभिक आंकड़े सामने आये हैं, उसके अनुसार छत्तीसगढ़ की जनसंख्या में 22.59 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. लेकिन आदिवासी बहुल इलाके यानी कि बस्तर, दंतेवाड़ा, बीजापुर, सुकमा, कांकेर, दक्षिण बस्तर, जशपुर और कोरिया जिले में वृद्धि दर के आंकड़े काफी कम हैं.

Tags: , , ,