बैठे रहने से हृदयाघात का खतरा

Thursday, January 23, 2014

A A

हृदयाघात

न्यूयॉर्क |एजेंसी:यूं ही घंटों बैठे रहने से पुरुषों में दिल का दौरा पड़ने का जोखिम बढ़ता है. यहां तक कि नियमिति व्यायाम करने वाले व्यक्ति को भी यदि लंबे समय तक बैठे रहना पड़ता है तो उसमें हृदयाघात का जोखिम बढ़ जाता है. इसका खुलासा करने वाले शोधकर्ताओं ने चेतावनी भरे लहजे में कहा, “बैठें कम, अधिक से अधिक सक्रिय रहें.”

कैलिफोर्निया स्थित पासाडेना में कैसेर पर्मानेंट के वरिष्ठ वैज्ञानिक और प्रमुख शोधकर्ता देबोराह रॉम यंग ने कहा, “अध्ययन ने सबसे पहले हृदयाघात और अधिक देर तक बैठे रहने वाले व्यक्ति के बीच संबंध का अध्ययन किया गया.”

इस संबंध को समझने के लिए शोधकर्ताओं ने 45 से 69 आयुवर्ग के 84,170 पुरुषों पर अध्ययन किया. अध्ययन में शामिल इन सभी व्यक्तियों को कभी भी दिल का दौरा नहीं पड़ा था.

व्यायाम स्तरों की गणना मनुष्य के शरीर की ऊर्जा को मापने वाली इकाई मेटाबोलिक इक्विलेंट ऑफ टास्क में की गई, जबकि बैठने की गणना घंटों में की गई.

करीब आठ वर्षो के निरंतर शोध के बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि ज्यादा सक्रिय रहने वाले पुरुषों की तुलना में कम शारीरिक गतिविधियां करने वाले पुरुषों में दिल का दौरा पड़ने की आशंका 52 प्रतिशत अधिक थी.

शारीरिक रूप से अधिक सक्रिय और दिन में दो घंटे या इससे कम बैठने वाले पुरुषों की तुलना में दिन में कम से कम पांच घंटे बैठने और कम व्यायाम करने वाले पुरुषों में हृदयाघात का खतरा दोगुने से भी अधिक पाया गया.

यंग ने कहा, “लोगों को दिल के दौरे और अन्य हृदय रोगों के जोखिम को कम करने के लिए एक सप्ताह में कम से कम 150 मिनट मध्यम गति से ऐरोबिक व्यायाम करने चाहिए.”

Tags: ,