रक्षाबंधन पर आयुष्मान योग

Sunday, August 10, 2014

A A

राखी

बिलासपुर | संवाददाता: ज्योतिषीय जानकारों के अनुसार लम्बे अरसे बाद इस समय रक्षाबंधन में खास संयोग बन रहा है. इसे मंगलकारी व शुभ फल प्रदान करने वाला माना जाता है. इस दिन जहां आयुष्मान योग है, जो भाइयों के लिए दीर्घायुकारक होगा, वहीं रक्षाबंधन के दिन यानी 10 अगस्त को सालों बाद 9 में से 7 ग्रह एक साथ विराजित हो रहे हैं. ये सभी ग्रह शुभ फल देने वाले हैं.

जिन दो ग्रहों राहु व केतु को अशुभ माना जाता है, उनका भी इस पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. हालांकि इस दिन भद्रा का योग होने से राखी बांधने पर संशय की स्थिति बनी हुई है. अधिकतर लोग भद्रा काल के बाद राखी बंधवाएंगे वहीं जानकारों का कहना है कि भद्रा मकर राशि में है, इसलिए उसका कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा. रविवार को दिनभर राखी बांधी जा सकेगी. रक्षा बंधन को लेकर पूरे प्रदेश में उत्साह का माहौल है.

ज्योतिषी सुखनंदन शास्त्री कहते हैं कि शनिवार की आधी रात करीब 3.30 बजे से भद्रा शुरू होगी, जिसका समय काल रविवार दोपहर 1.35 बजे तक रहेगा. चूंकि भद्रा काल को रक्षाबंधन व होलिका के लिए ठीक नहीं माना जाता, इसलिए इस काल का त्याज्य करना चाहिए और भद्रा समाप्त होने के बाद राखी बंधवानी चाहिए. 10 अगस्त को दिनभर पूर्णिमा है, इसलिए रात तक राखी बंधवाई जा सकती है.

इस संबंध में ज्योतिषी डॉ.दत्तात्रे होस्केरे का कहना है कि शास्त्रों में भद्रा के संबंध में कहा गया कि मकर राशि की भद्रा का वास पाताल लोक में होता है, इसलिए भद्रा का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता. चूंकि रक्षाबंधन के दिन भद्रा का वास पाताल लोक में होगा, इसलिए भद्रा काल में भी रक्षा सूत्र बांधा जा सकेगा.

बहनें स्नान-ध्यान के बाद घर की सफाई करके चावल के आटे से चौक पूरकर मिट्टी के छोटे कलश की स्थापना करें. चावल, कच्चे सूत का कपड़ा, सरसों, रोली को एक साथ मिलाएं. पूजा की थाली तैयार कर दीप जलाएं और मिठाई रखें. भाई को पीढ़े पर पूर्व दिशा में बिठाएं और बहन भी पीढ़े पर बैठे लेकिन उसका मुंह पश्चिम दिशा की ओर हो.

ऐसी मान्यता है कि राखी बंधवाते समय पीढ़े पर बैठने से शुद्धिकरण होता है. रक्षा सूत्र बांधते समय निम्न मंत्र का जाप करने से उत्तम फल की प्राप्ति होती है. मंत्र- ‘येन बद्धो बलिराजा, दानवेन्द्रो महाबल: तेनत्वाम प्रति बद्धनामि रक्षे माचल-माचल:’. बहरहाल अरसे बाद बन रहे अद्भुत संयोग के चलते भाई-बहन के इस पर्व रक्षाबंधन की तैयारी को लेकर प्रदेश भर में खासा उत्साह है.

Tags: , ,