भाजपा का सत्ता में रहना घातक : अजीत जोगी

Monday, August 19, 2013

A A

अजीत जोगी

रायपुर । एजेंसी: छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने बस्तर आदिवासी बाहुल्य क्षेत्रों के 300 ग्रामों में स्वतंत्रता दिवस नक्सलियों के भय से न मनाने, विकास थम जाने, स्वास्थ्य सेवा चरमरा जाने के पीछे भाजपा सरकार की लापरवाही को जिम्मेदार ठहराया है. साथ ही उन्होंने कहा कि इस सरकार का सत्ता में बने रहना घातक है. जोगी ने कहा है कि प्रदेश की भाजपा सरकार के साढ़े नौ वर्ष के शासनकाल में नक्सलवाद पूरे बस्तर संभाग को अपनी चपेट में ले रखा है. इसका प्रमुख कारण प्रदेश भाजपा सरकार की नक्सल समस्या के संबंध में बरती जा रही लापरवाही है.

उन्होंने कहा कि केन्द्र की संप्रग सरकार द्वारा नक्सल समस्या के समाधान के लिए करोड़ों रुपये और सुरक्षा बल राज्य सरकार को उपलब्ध कराए जा रहे हैं किन्तु राज्य सरकार द्वारा उन रुपयों तथा सुरक्षा बलों का सही उपयोग नहीं किया गया. इसके बजाय मात्र दिखावटी तौर पर प्रदेश में बना रखा है, जिसके फलस्वरूप बस्तर क्षेत्र नक्सलियों के पूर्ण कब्जे में जाता हुआ नजर आ रहा है.

उन्होनें ने कहा कि कांग्रेस शासनकाल में मात्र दो जिले नक्सल प्रभावित थे जबकि भाजपा के साढ़े नौ वर्षो के शासनकाल में नौ जिले पूर्ण रूप से नक्सल समस्या से ग्रसित हो चुके हैं. एक तरफ बस्तर का विकास पूर्ण रूप से रुक चुका है वहीं दूसरी तरफ प्रदेश की भाजपा सरकार कागजी विकास को आधार बनाकर विकास यात्राएं निकाल रही है.

अजीत जोगी ने कहा कि नक्सल समस्या के मोर्चे पर प्रदेश सरकार पूर्णत: असफल हुई है जिसका परिणाम यह है कि बस्तर में स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव के चलते निरीह आदिवासी असमय ही मौत के गाल में समा रहा है. प्रदेश सरकार नक्सली भय के फलस्वरूप स्वास्थ्य सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं करा पा रही है.

उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों को छत्तीसगढ़ पुलिस के मार्गदर्शन में नक्सल आपरेशन करना होता है किन्तु शासन की पुलिस सुरक्षा बलों को उचित मार्गदर्शन देने में आनाकानी कर रही है जिसके फलस्वरूप बस्तर में नक्सलवाद तीव्र गति से पनप रहा है.

जोगी ने प्रदेश की भाजपा सरकार को आदिवासियों के विकास एवं सुरक्षा की दृष्टि से पूर्णत: असफल बताते हुए कहा कि भाजपा सरकार का सत्ता में बने रहना प्रदेश के लिए घातक दिखाई दे रहा है और इसी के कारण प्रदेश की जनता के द्वारा इस सरकार को सत्ता से बाहर उखाड़ फेंकने का मन बना लिया है.

Tags: , , ,