छत्तीसगढ़ में मेडिकल प्रवेश में घोटाला

Sunday, June 22, 2014

A A

मे़डिकल प्रवेश

रायपुर |संवाददाता : छत्तीसगढ़ के रायपुर में ऐसे छात्रों को मेडिकल में प्रवेश दे दिया गया, जिनके अंक 40 प्रतिशत थे. अब इस मामले के सामने आने के बाद मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया ने पं. जवाहरलाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय को पत्र लिख कर जानना चाहा है कि नियमों को ताक पर रख कर किन परिस्थितियों में 39 छात्रों को प्रवेश दिया गया. काउंसिल ने छत्तीसगढ़ चिकित्सा शिक्षा संचालनालय को भी पत्र लिख कर जवाब मांगा है.

असल में पिछले साल सरकार ने राष्ट्रीय स्तर पर चिकित्सा में प्रवेश के लिये नेशनल इलीजबिलिटी कम इंट्रेस परीक्षा का आयोजन किया था. प्रावीण्य सूची में जिन छात्रों के नाम सामने आयें, उनको तो प्रवेश दे दिया गया. लेकिन इसके बाद भी रायपुर क़ॉलेज की 39 सीटें खाली रह गईं.

इसके बाद पं. जवाहरलाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय में प्रबंधन ने अपने तरीके से बच्चों को प्रवेश देना शुरु कर दिया. इनमें 8 छात्र अनारक्षित थे, जबकि27 छात्र आदिवासी समाज के थे. इसके अलावा 6 अन्य पिछड़ा वर्ग के लोग भी आए. लेकिन इनमें से अधिकांश के नंबर 40 प्रतिशत से भी कम थे. हालत ये हुई कि स्थानीय प्रबंधन ने आंख बंद कर फैसला लिया और उस पर अमल भी शुरु कर दिया. आज की तारीख में 40 फीसदी से भी कम अंक पाने वाले बच्चे मेडिकल कॉलेज में पढ़ रहे हैं. एससीआई को जब यह खबर मिली तो उसके काम खड़े हो गये.

माना जा रहा है कि अगर ठीक से जांच हो तो राज्य के दूसरे मेडिकल कॉलेजों में भी ऐसी गड़बड़ियां मिल सकती हैं. फिलहाल तो राज्य सरकार ने अपना जवाब भिजवा दिया है. उस जवाब से एमसीआई कितनी संतुष्ट होती है, इस पर सबकी नज़ले लगी हई हैं.

Tags: , , , , , , ,