छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य सेवाओं पर सवाल

Sunday, August 7, 2016

A A

पीहू-मोरबी

रायपुर | जेके कर: छत्तीसगढ़ शिशु मृत्यु दर के मामलें में गोवा, गुजरात जैसे राज्यों से पिछड़ा हुआ है. केन्द्र सरकार द्वारा जुलाई 2016 में जारी किये गये आकड़ों के अनुसार छत्तीसगढ़ में प्रति हजार जन्म में शिशु मृत्यु दर 43 है जबकि गोवा तथा गुजरात में 10 एवं 35 है. छत्तीसगढ़ के गांवों में शिशु मृत्यु दर 45 तथा शहरों में 34 है. जाहिर सी बात है कि शिशु मृत्यु दर के मामलें में देश में पिछड़ जाने से छत्तीसगढ़ के स्वास्त्य सेवाओं पर सवालिया निशान लग गये हैं. शहरों की तुलना में गांवों में शिशु मृत्यु दर का ज्यादा होना इस बात का संकेत है कि छत्तीसगढ़ के गांवों में जच्चा-बच्चा को शहरों के समान स्वास्थ सुविधायें नहीं मिल पा रहीं है.

छत्तीसगढ़ देश के 21 बड़े राज्यों, 9 छोटे राज्यों एवं 6 केन्द्र शासित प्रदेशों में 6वें स्थान पर है. दरअसल, जिस राज्य में शिशु मृत्यु दर जितनी कम होती है माना जाता है कि वहां जच्चा-बच्चा की देखभाल सही तरीके से होती है. शिशु मृत्यु दर जन्म के पहले साल के आधार पर तय की जाती है.

शैशव काल में मृत्यृ के पीछे कारण जन्म के समय कम वजन का होना, कुपोषण, दस्त तथा श्वास नली का संक्रमण मुख्यतः होता है. हालांकि, शिशु मृत्यु दर के मामलें में छत्तीसगढ़ में पहले की तुलना में कमी आई है. पहले राज्य में 1 हजार जीवित जन्म पर शिशु मृत्यु दर 46 थी.

केन्द्र सरकार के द्वारा तथा राज्य सरकार के द्वारा शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के लिये कई कार्यक्रम चलाये जा रहें हैं, जच्चा-बच्चा को बेहतर स्वास्थ्य सेवा मुहैया कराने के लिये प्रयास भी जारी है. इन सब के बावजूद विकास के तमाम तरह के दावा करने वाला छत्तीसगढ़ किस तरह से शिशु मृत्यु दर के मामलें में देश में नीचे से 6वें स्थान पर है यह हैरत की बात है.

यहां तक कि देश के छोटे राज्यों जैसे अरुणाचल प्रदेश में यह 30, हिमाचल प्रदेश में 32, मणिपुर में 11, मिजोरम में 32, नगालैंड में 14, सिक्किम में 19 तथा त्रिपुरा में 21 है. हां, देश के छोटे राज्यों में से मेघालय में जरूर छत्तीसगढ़ से ज्यादा शिशु मृत्यु दर 46 है.

जहां तक देश के केन्द्र शासित प्रदेशों की बात है वहां पर भी छत्तीसगढ़ की तुलना में शिशु मृत्यु दर काफी कम है. उदाहरण के तौर पर अंडमान-निकोबार में 22, चंडीगढ़ में 23, दादरा नागर हवेली में 26, दमन द्वीप में 18, लक्ष्यद्वीप में 20 तथा पुड्डुचेरी में 14 है.

हां, देश के कई बड़े राज्यों में छत्तीसगढ़ से ज्यादा शिशु मृत्यु दर है. उनमें से असम तथा ओडिशा में 49-49, मध्य प्रदेश में 52, राजस्थान में 46 तथा उत्तर प्रदेश में 48 है.

इस तरह से 21 बड़े राज्यों, 9 छोटे राज्यों एवं 6 केन्द्र शासित प्रदेशों में छत्तीसगढ़ शिशु मृत्यु दर के मामलें में देश में 6वें स्थान पर है.

Tags: , , ,