छत्तीसगढ़ मीटर घोटाले में ईई बर्खास्त

Monday, October 27, 2014

A A

मीटर घोटाला

जगदलपुर | एजेंसी: छत्तीसगढ़ में बस्तर के बहुचर्चित बिजली मीटर घोटाला कांड की जांच-पड़ताल के बाद राज्य सरकार ने एक कार्यपालन यंत्री को सेवा से बर्खास्त कर दिया है. इसके अलावा एक क्षेत्रीय लेखा अधिकारी सहित चार कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है.

छत्तीसगढ़ के बस्तर और कोंडागांव जिले में धोखाधड़ी कर बिजली मीटर शिफ्टिंग के नाम पर डेढ़ करोड़ रुपये का लाभ एक ठेकेदार को पहुंचाया गया था.

छत्तीसगढ़ विद्युत मंडल के बस्तर वृत्त के अधीक्षण यंत्री यू.आर. मिर्चे ने बताया कि बीजापुर में पदस्थ कार्यपालन यंत्री भोपाल सिंह को मीटर घोटाला कांड में शामिल रहने के कारण सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है. कुछ माह पूर्व ही भोपाल सिंह को संविदा आधार पर बीजापुर जिला मुख्यालय पर कार्यपालन यंत्री के पद पर पदस्थ किया गया था.

उन्होंने बताया कि मीटर घोटाला के सिलसिले में कंपनी की फर्जी आईडी से ठेकेदार को डेढ़ करोड़ रुपये भुगतान किए जाने के मामले में बस्तर वृत्त के रीजनल एकाउंट ऑफिसर एस. कुजुर, अकाउंट ऑफिसर ए.टीकी, सेक्सन ऑफिसर अशोक स्वर्णकार व एक अन्य कर्मचारी नवीन प्रधान को 22 अक्टूबर को निलंबित कर दिया गया है.

उन्होंने कहा कि इस मामले की जांच-पड़ताल अभी जारी रहेगी. संभव है कि इस घोटाला कांड के कारण कुछ अधिकारियों के तबादले भी कर दिए गए हैं.

दूसरी तरफ, छत्तीसगढ़ विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध निदेशक एवं भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी सुबोध कुमार सिंह ने भी कार्यपालन यंत्री भोपाल सिंह के बर्खास्तगी के साथ-साथ चार अन्य अधिकारियों के निलंबन की खबर की पुष्टि की है.

उन्होंने यह भी बताया कि इसी प्रकार मीटर घोटाले के सिलसिले में बिलासपुर संभाग में भी नौ अधिकारियों एवं कर्मचारियों को निलंबित किया जा चुका है.

Tags: , , , , , , ,