छत्तीसगढ़ में फिर 12 हिरणों का शिकार

Friday, May 23, 2014

A A

छत्तीसगढ़ चीतल

रायपुर | समाचार डेस्क: छत्तीसगढ़ में एक बार फिर कई हिरण मारे गये हैं. बारनवापारा के जंगल में शिकारियों ने एक तालाब में यूरिया मिला कर इन हिरणों का शिकार किया. मौके से वन विभाग के अमले ने एक दर्जन हिरणों के शव बरामद किये हैं. ग्रामीणों का कहना है कि शिकारी अपने साथ कई हिरणों को लेकर चले गये हैं.

वन विकास निगम परियोजना परिक्षेत्र रवान में इससे पहले भी हिरणों का शिकार होता रहा है. लेकिन वन विभाग का अमला इस मामले में चुप्पी साधे रहता है. यही कारण है कि शिकारियों के हौसले बुलंद हैं.

गुरुवार को भी शिकारियों ने कक्ष क्रमांक 142 के टारबंध तालाब में यूरिया मिला दिया. जिसके बाद हिरणों द्वारा यूरियायुक्त पानी पीने के कारण मौके पर ही उनकी मौत हो गई. सड़क से लगभग लगे हुये इस तालाब के पास कुल कितने हिरणों की मौत हुई, इसकी ठीक-ठीक जानकारी किसी के पास नहीं है. हालत ये है कि घटना की जानकारी सार्वजनिक होने के बाद भी शाम तक वन अमले का कोई भी जिम्मेवार अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा.

स्थानीय ग्रामीणों का कहना है कि इलाके में शिकार की घटनाएं आम हैं और बाहर से आने वाले शिकार कर के चले जाते हैं और वन विभाग के अधिकारी सोते रहते हैं. मौके पर ग्रामीणों ने कम से कम 12 हिरणों के शव गुरुवार की शाम तक पड़े होने की जानकारी दी. इसके अलावा भी कुछ हिरणों को शिकारी अपने साथ लेकर चले गये होंगे, इस आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता.

तस्वीर: फाइल फोटो

Tags: , , , , ,