बिलासपुर में साइंस एक्सप्रेस

Saturday, January 30, 2016

A A

बिलासपुर-रेलवे-स्टेशन

बिलासपुर | समाचार डेस्क: भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी तथा पर्यावरण एवं वन मंत्रालय द्वारा संयुक्त रूप से जलवायु परिवर्तन विषय पर आधारित विज्ञान एक्सप्रेस चलाया जा रहा है. अपने आठवें चरण में भ्रमण हेतु 15 अक्टूबर 2015 से दिल्ली के सफदरजंग स्टेशन से निकली यह एक्सप्रेस पूरे भारत में अलग-अलग राज्यों के 64 स्टेशनों से होते हुए करीब 7 महीने की अवधि में 19,800 किमी की यात्रा तय करेगी.

इसी क्रम में यह एक्सप्रेस दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के बिलासपुर स्टेशन में प्रदर्शन हेतु 31 जनवरी से 2 फरवरी 2016 तक प्लेटफार्म नं. 06 पर उपलब्ध रहेगी. इस प्रदर्शनी एक्सप्रेस का विधिवत शुभारंभ मंडल रेल प्रबंधक रविन्द्र गोयल 31 को प्रात: 10 करेंगे.

यह प्रदर्शनी सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक खुली रहेगी. इस प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य भारत के जलवायु परिवर्तन, पानी, ऊर्जा संरक्षण एवं पर्यावरण संरक्षण संबंधित सोसायटी तथा विशेष रूप से छात्रों के बीच अद्वितीय जैव-विविधता पर व्यापक प्रसार कर जागरूकता फैलाना है.

यह प्रदर्शनी नि:शुल्क है. इस एक्सप्रेस के अंदर मोबाइल, केमरा, बैग, माचिस, सिगरेट, बीडी, तंबाकू, पानी की बोतलें, किसी भी प्रकार के तरल पदार्थ, नुकीली वस्तुएं आदि ले जाना मना है. इस एक्सप्रेस में बच्चों एवं शिक्षकों हेतु एक-एक विशेष कोच हैं जिससे उन्हें विशेष तरीके से विज्ञान के बारे में बताया जाता है.

यह विज्ञान एक्सप्रेस अथवा साइंस एक्सप्रेस एक मोबाइल साइंस प्रदर्शनी एक्सप्रेस है. इसमें जैव-विविधता, जलवायु परिवर्तन, ऊर्जा संरक्षण एवं पर्यावरण संरक्षण संबंधित मुद्दों को अनूठा विज्ञान प्रदर्शनी के माध्यम से बताया तथा समझाया जाता है. इसकी शुरुआत भारत में 30 अक्टूबर 2007 को मोबाइल विज्ञान प्रदर्शनी के रूप में हुई थी.

16 कोचों वाली इस एक्सप्रेस गाड़ी में भारत में पाए जाने वाली जैव-विविधता, जैव-भौगोलिक क्षेत्रों, जैसे हिमालय, गंगा का मैदान, उत्तर-पूर्व भारत, पश्चिमी घाट, भारतीय रेगिस्तान, अर्ध शुष्क क्षेत्र, डेक्कन प्रायदीप क्षेत्रों को शामिल किया गया है. इसके अलावा इस प्रदर्शनी एक्सप्रेस में संरक्षण के चुनौतियों के अलावा आजीविका के साथ समुद्री, तटीय, वन एवं कृषि जैव विविधता और उनके विभिन्न पहलुओं को भी शामिल किया गया है.

Tags: , , , , ,