छत्तीसगढ़: बड़े नक्सल ऑपरेशन की तैयारी

Friday, April 17, 2015

A A

नक्सल

रायपुर | एजेंसी: छत्तीसगढ़ के बस्तर संभाग में पिलमेड़ के जंगलों में एसटीएफ के जवानों पर हुए हमले के बाद पुलिस व अन्य सुरक्षा बलों के जवान सीधे नक्सलियों पर हमला कर सकते हैं. विभागीय सूत्रों की मानें तो पुलिस के आला अफसर पिड़मेल की घटना के बाद अब नक्सलियों से सीधे लड़ाई लड़ने की मूड में आ गए हैं. इसके लिए जरूरी कुछ प्रक्रियाओं व योजनाओं पर विचार भी शुरू हो गया है. इसके परिणाम जल्द ही निकट भविष्य में देखने को मिल सकते हैं. दो दिन पहले ही बस्तर रेंज के आईजी एसआरपी कुल्लूरी ने भी साफ कर दिया था कि पिड़मेल की घटना के बाद नक्सलियों से आरपार की लड़ाई होगी और फोर्स जंगलों में जाएगी और विकास कार्य में मदद की जाएगी.

माना जा रहा है कि आने वाले कुछ दिनों में दक्षिण बस्तर के कुछ स्थानों पर पुलिस नक्सलियों को घेरेगी और उन पर सीधे हमले होंगे. इसके लिए एसटीएफ, डीएफ व सीआरपीएफ के कोबरा बाटालियन का सहारा लिया जाएगा. विभाग में पिड़मेल में जवानों ने जो बहादुरी दिखाई उसकी ज्यादा चर्चा है.

अफसरों का मानना है कि एंबुश में फसने के बाद भी जवानों ने हौसला नहीं खोया और नक्सलियों पर पिल पड़े. इस हौसले को आगे भी कायम रखने नक्सलियों पर सीधे हमले जरूरी हो गए हैं.

विभागीय सूत्रों के मुताबिक, इलाके में काम कर रही अलग-अलग फोर्स के साथ मिलकर पुलिस सुकमा व इसके अंदरुनी इलाकों में बड़े आपरेशन लांच कर सकती है. ऐसा बताया जा रहा है कि अप्रैल के अंत या फिर मई की शुरुआत में इन इलाकों में फोर्स कई अक्रामक अभियान चलाएगी. इन आपरेशन के लिए भी आपसी कोआर्डिनेशन अफसर बना रहे हैं. इसके अलावा इलाके में बरसात से पहले सड़कें व भवन बनाने के काम में तेजी लाने के लिए पुलिस अलग-अलग सरकारी विभागों की मदद करेगी.