छत्तीसगढ़: सैनिकों को राखी भेजी गई

Friday, August 14, 2015

A A

रक्षाबंधन का त्यौहार

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से सीमा तैनात भाईयों के लिये राखियां भेजी गई. इसके लिये भारत रक्षा पर्व रथ रवाना किया गया. सरहद के सैनिकों के लिये राखी भेजने की पहलकदमी एक हिन्दी समाचार पत्र समूह की ओर से किया गया था. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रक्षा बंधन पर्व के अवसर पर छत्तीसगढ़-मध्यप्रदेश की बहनों की राखियां सरहद पर तैनात वीर जवानों तक भेजने के लिए आज सवेरे अपने निवास से भारत रक्षा पर्व रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. यह रथ रायपुर से बिलासपुर, भोपाल, इंदौर और ग्वालियर होते हुए जम्मू तक जाएगा. संसदीय सचिव मोतीलाल चंद्रवंशी, जनसम्पर्क सचिव गणेश शंकर मिश्रा और वरिष्ठ पत्रकार रूचिर गर्ग भी इस अवसर पर उपस्थित थे.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने नई दुनिया पत्र समूह की इस पहल की सराहना करते हुए कहा कि यह अभियान इस बात का प्रतीक है कि पर्वों पर पूरा देश जवानों को याद करता है. सीमा पर तैनात जवानों से पूरा देश भावनात्मक रुप से जुड़ा है. जवान जब सीमा पर जंगलों-पहाड़ों तथा बर्फ पर वीरता और शौर्य के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए सीमा की सुरक्षा करते हैं, तब पूरा हिन्दुस्तान चैन से रहता है.

उन्होंने कहा कि देश के जवानों के लिए ये राखियां छत्तीसगढ़ के ढाई करोड़ लोगों के स्नेह का प्रतीक है. मुख्यमंत्री ने जवानों के लिए राखी के साथ शुभकामना संदेश भी भेजा. इस अवसर पर राजधानी के हीरापुर स्थित समाजसेवी संस्था नेशनल एसोसिएशन फार दी ब्लाइंड रायपुर द्वारा संचालित छात्रावास के बच्चों ने राखी के साथ ब्रेल लिपि में लिखे जवानों के लिए शुभकामना संदेश भेजे हैं. नेत्रहीन स्कूल छात्रा कृति साहू ने अपने संदेश में लिखा है कि हमारे देश के महान सैनिक, आज हम अपने आपको सुरक्षित महसूस कर रहे हैं और शांत मन से बेफिक्र होकर पढ़ाई कर पा रहे हैं, निर्भय होकर जी रहे हैं, यह आपके सहयोग से संभव हो सका है. हमारे देश के बहादुर सैनिकों यदि आप नहीं तो हम नहीं.

छात्रा रूखमनी सेन ने अपने संदेश में लिखा है कि सचमुच महान हैं वे युवा, जिनका लक्ष्य सैनिक बनना है. सैनिक का उद्देश्य देश की सुरक्षा करना होता है, उनके यही विचार हमारे मन में जोश भर देते हैं. आ रही है आज चारों ओर से यही पुकार, हम करेंगे त्याग, मातृभूमि के लिए हजार. बच्चों ने यें संदेश मुख्यमंत्री को सुनाए.

Tags: , , ,