छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने किया चक्का जाम

Monday, September 14, 2015

A A

छत्तीसगढ़ कांग्रेस

रायपुर | संवाददाता: छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने रविवार को राज्य के 200 स्थानों पर चक्का जाम किया. रविवार को कांग्रेस के सदस्यों ने मुख्यतः नेशनल हाईवे तथा स्टेट हाईवे पर चक्का जाम किया. फलस्वरूप राजधानी रायपुर के बाहर नेशनल हाइवे पर दो किलोमीटर लंबी गाड़ियों की लाइन लग गई. छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने किसानों की मांग को लेकर यह चक्का जाम किया था. छत्तीसगढ़ कांग्रेस की मांग है कि राज्य को सूखाग्रस्त घोषित कर किसानों को मुआवजा दिया जाये.

छत्तीसगढ़ कांग्रेस का चक्का जाम का कार्यक्रम का असर बिलासपुर, रायपुर, राजनांदगांव, धमतरी, बस्तर, सरगुजा तथा महासमुंद में देखने को मिला. रायपुर में छत्तीसगढ़ कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेश बघेल के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने गिरफ्तारी दी. कांग्रेस के भूपेश बघेल ने कहा, “छत्तीसगढ़ को सूखाग्रस्त प्रदेश घोषित किया जाये. फसल बचाने के लिए जलाशयों से पानी छोड़ा जाये. पलायन रोकने मनरेगा के तहत तत्काल काम शुरू किया जाये. किसानों को अंतरिम राहत के रूप में बकाया बोनस राशि का भुगतान करें. बिजली कटौती बंद की जाए. अभनपुर लाठी चार्ज में मृत किसान केजूराम बारले की मौत की न्यायिक जांच कराई जाये और उनके परिवार को 20 लाख रुपए मुआवजा दिया जाये.”

वहीं भाजपा ने कांग्रेस के इस चक्का जाम कार्यक्रम को असफल करार दिया. छत्तीसगढ़ भाजपा के अध्यक्ष धरमलाल कौशिश ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुये कहा, “कांग्रेस पार्टी द्वारा प्रायोजित चक्काजाम पूर्णतः असफल रहा है. कांग्रेस ने दावे तो बड़े-बड़े किए थे, लेकिन कांग्रेस को किसानों का साथ नहीं मिला और चक्काजाम जैसी स्थिति प्रदेश में कहीं भी नहीं देखी गई. प्रदेश की भाजपा सरकार ने किसानों को राहत देने का वादा किया है. जल्द ही ठोस कदम उठाया जाएगा.”

छत्तीसगढ़ कांग्रेस की मांगे-
#छत्तीसगढ़ को सूखाग्रस्त प्रदेश घोषित किया जाये.
#फसल बचाने के लिए जलाशयों से पानी छोड़ा जाये.
#पलायन रोकने मनरेगा के तहत तत्काल काम शुरू किया जाये.
#किसानों को अंतरिम राहत के रूप में बकाया बोनस राशि का भुगतान करें.
#बिजली कटौती बंद की जाए.
#तथा अभनपुर लाठी चार्ज में मृत किसान केजूराम बारले की मौत की न्यायिक जांच कराई जाये और उनके परिवार को 20 लाख रुपए मुआवजा दिया जाये.

Tags: , , , , , ,