ब्रेड में अब कैंसरजनक नहीं रहेंगे

Thursday, May 26, 2016

A A

ब्रेड-डबल रोटी

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: ब्रेड निर्माता कंपनियों ने गुरुवार को कहा कि वे कैंसरजनक रसायनों का उपयोग नहीं करेंगे. ऑल इंडिया ब्रेड मैन्यूफैक्चर्स एसोसिएशन के एक प्रतिनिधि मंडल के नेता आदिल हसन ने यहां संवाददाताओं से कहा, “यदि लोगों को पसंद नहीं, तो हम पोटेशयम ब्रोमेट और आयोडेट का उपयोग नहीं करेंगे. हम इसलिए इनका उपयोग कर रहे थे, क्योंकि हमारी सरकार और वैज्ञानिकों ने इनके उपयोग की अनुमति दे रखी थी. इनके विकल्प के रूप में हमारे पास अन्य एंजाइम और इमल्सीफायर हैं.”

हसन हार्वेस्ट गोल्ड ब्रेड्स के प्रबंध निदेशक हैं. उन्होंने कहा कि पोटेशियम ब्रोमेट ऑक्सीडाइजिंग एजेंट है. इसके अधिक उपयोग को हानिकारक बताते हुए उन्होंने कहा कि यदि थोड़ी मात्रा में मिलाया जाए, तो इससे उत्पाद बेहतर होता है.

उन्होंने कहा, “पोटेशियम आयोडेट हमारे लिए कभी भी उपयोगी नहीं था. हम इसका उपयोग इसलिए करते थे, क्योंकि सरकार ने ब्रेड निर्माण के लिए इसके उपयोग की अनुमति दे रखी थी.”

उन्होंने कहा कि इन दोनों एडीटिव के उपयोग को लेकर उपभोक्ताओं में भ्रम है इसलिए ऑल इंडिया ब्रेड मैन्यूफैक्चर्स एसोसिएशन ने इनके उपयोग को बंद करने का फैसला किया है.

उन्होंने दावा किया कि इन दोनों रसायनों का उपयोग अमरीका जैसे कई विकसित देशों में होता है.

उन्होंने कहा, “यूरोप में इनका उपयोग नहीं होता है, क्योंकि वहां दूसरे एंजाइम उपलब्ध हैं.”

उन्होंने कहा कि सेंटर फॉर साइंस एंड एनवॉरमेंट (cse) की रिपोर्ट की जानकारी ब्रेड निर्माताओं को मीडिया से मिली.

सेंटर फॉर साइंस एंड एनवॉरमेंट की पिछले दिनों जारी हुई रिपोर्ट में इन रसायनों से कैंसर पैदा होने का खतरा बताया गया है. रिपोर्ट जारी होने के बाद भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (fssai) ने सोमवार को ब्रेड निर्माण में इन रसायनों के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है.

Tags: , , , , ,