रिएलिटी शो खत्म, आप सरकार बनाएगी

Saturday, December 21, 2013

A A

अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली | समाचार डेस्क: अरविंद केजरीवाल ने जनमत संग्रह के बाद सरकार बनाने का संकेत दिया है. गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी सरकार बनाई जाये या नहीं इस पर जनता की राय जानने के लिये कई तरह के जतन कर रही है. जिसे कई लोगो ने आप का रिएलिटी शो करार दिया है. केजरीवाल ने कहा है कि आप सोमवार को इस बात का फैसला लेगी. खबरो के अनुसार अभी तक आप को 6 लाख लोगो की राय मिल चुकी है जिसमें से अधिकांश ने सरकार बनाने के पक्ष में राय दी है.

अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि जनता को चांद नहीं सरकार चाहिये हम सरकार चलाकर दिखाएंगे. उन्होंने एक खबरिया अखबार को बताया कि `हम सरकार बनाएंगे भी और विरोधी दलों की इस सोच को भी गलत ठहराएंगे कि हमें सरकार चलाने में दिक्कत आएगी. हम सरकार चलाकर दिखाएंगे, इनसे अच्छी तरह चलाकर दिखाएंगे और ठोक-बजाकर चलाकर दिखाएंगे.` यह टिप्पणी उन्होंने इस लिये की कि यह कहा जा रहा है कि आम आदमी पार्टी सरकार नहीं चला सकती है.

आम आदमी पार्टी के संयोजक केजरीवाल ने कहा है कि हम बिजली की कंपनियों के आडिट करवाएंगे तथा हर घर को 700 लीटर पानी मुहैय्या करायेंगे. उन्होंने कहा कि ‘हमने जनता से बात करने के बाद बड़ी ही सावधानी से अपना मेनिफेस्टो बनाया था. यह प्रैक्टिकल है और इसे आसानी से लागू किया जा सकता है. कांग्रेस तो 1998 तक का मेनिफेस्टो पूरा नहीं कर पाई और अब हमें चैलेंज कर रही है? यह हमारी प्राथमिकता है और हम अपने वादों को पूरा करके दिखाएंगे.’

ज्ञात्वय रहें कि आम आदमी पार्टी पर कांग्रेस, भाजपा तथा समर्थक यह दबाव बना रहें हैं कि वह दिल्ली में सरकार बनाये. ताजा राजनीतिक हालात में कांग्रेस तथा भाजपा दोनों फिर से चुनाव में नहीं जाना चाहती है. इसीलिये कांग्रेस ने लिखकर दिया है कि आप सरकार बनायें. वहीं भाजपा भी चाहती है कि आम आदमी पार्टी सरकार बनाये तथा अपना चुनावी वादा पूरा करें ताकि लोकसभा चुनाव के वक्त उसे घेरा जा सके. आम आदमी पार्टी के समर्थकों की भी राय है कि सरकार बनाकर केजरीवाल आप के चुनावी वादों को पूरा करके दिखायें जिसका लाभ 2014 के लोकसभा चुनाव में आप को मिले.

हालांकि केजरीवाल की रणनीति रही है कि भाजपा तथा कांग्रेस से लिखित में आश्वासन लेने के बाद सरकार बनायी जाये ताकि आप के चुनावी घोषणा पत्र को लागू करते समय दोनों पार्टियां विरोध न कर सके. दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस ने भी अपने लिखित जवाब में उल्लेख किया है कि केजरीवाल के 18 में से 16 सवाल प्रशासनिक है जिसे आप को पूरा करके दिखाना है. कांग्रेस ने 2 सवालों पर कहा कि यह केन्द्र का मामला है जिसे कांग्रेस समर्थन करेगी.

इसी के बाद से आम आदमी पार्टी दिल्ली की जनता से सीधे तौर पर उनकी राय एकत्र कर रही है. दिल्ली की जनता की राय जानने के लिये एसएमएस, इंटरनेट तथा फेसबुक का सहारा लिया है. ऐसा कम से कम भारत में तो पहली बार हो रहा है कि कोई राजनीतिक दल चुनाव के बाद दुबारा जनता से राय लेती है.

Tags: , , ,